पर्सनल हुई बिहार की चुनावी लड़ाई, नीतीश ने दी लालू के 9 बच्चों की दुहाई


बिहार के सियासी रण में कौन बाजी मारेगा, ये 10 नवंबर को तय होगा, लेकिन उससे पहले चुनावी लड़ाई पर्सनल होती जा रही है. वैशाली जिले के महनार में चुनावी मंच से मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने जिस तरह से लालू यादव पर हमला किया, वो बेहद चौंकाने वाला रहा. आम तौर पर संयमित भाषा का इस्तेमाल करने वाले नीतीश कुमार बेहद तल्ख दिखे.

नीतीश कुमार ने चुनावी मंच से लालू प्रसाद यादव के 9 बच्चों पर कुछ ऐसा तंज कसा कि लोग भी हतप्रभ रह गए. अपने प्रत्याशी के समर्थन में चुनावी सभा करने पहुंचे नीतीश कुमार ने कहा कि 8-8, 9-9 बच्चे पैदा करने वाले बिहार का विकास करने चले हैं.

आगे सीएम ने कहा कि बेटे की चाह में कई बेटियां हो गईं. मतलब बेटियों पर भरोसा नहीं है. ऐसे लोग क्या बिहार का भला करेंगे. अगर यही लोगों के आदर्श हैं तो समझ लीजिए बिहार का क्या बुरा हाल होगा, कोई पूछने वाला नहीं रहेगा, सबका सब बर्बाद हो जाएगा. हम सेवा करते हैं और वे मेवा और माल चाहते हैं. इन्हीं कर्मों की वजह से अंदर जाते हैं. 

ये थी RJD से अलग होने की वजह

तेजस्वी पर हमला बोलते हुए नीतीश कुमार ने कहा कि 18 महीने RJD के साथ सरकार से अलग होने की वजह तेजस्वी की थानों और अधिकारियों से उगाही थी. इस तरह से हम काम नहीं कर सकते थे, इसीलिए हमने छोड़ दिया. बाद में भाजपा ने समर्थन दिया फिर सरकार बनी. 

पूर्व विधायक ने कहा 'जालिम'

इसी सभा के दौरान बेहद अजीबो-गरीब परिस्थिति बन गई, जब JDU प्रत्याशी की चुनावी सभा में BJP नेता और पूर्व विधायक मंच से अपने नेताओं को अनाप-शनाप बोलने लगे. दरअसल, महनार सीट BJP के खाते में थी, लेकिन 2015 में JDU के प्रत्याशी ने जीत हासिल की थी. इस बार BJP के पूर्व विधायक अच्युतानन्द सिंह को टिकट की उम्मीद थी पर सीट JDU के खाते में चली गई. मंच पर जब BJP के पूर्व विधायक के बोलने की बारी आई तो टिकट कटने के दर्द में नित्यानंद राय और भूपेंद्र यादव को मंच से कोसने लगे. पूर्व विधायक ने उन्हें 'जालिम' तक कह दिया. इस दौरान मंच पर नीतीश कुमार भी मौजूद थे.


ADVERTISEMENT