व्यापार माला एक्सप्रेस की शुरुआत, समय पर सामान पहुंचाने के लिए हावड़ा रेल मंडल ने बढ़ाया एक और कदम


कोरोना महामारी की रोकथाम के लिए लगे लॉकडाउन से लेकर अनलॉक 4 की अवधि के बीच रेलवे ने पार्सल एक्सप्रेस के जरिए दूरदराज तक चिकित्सीय उपकरण, दवाएं समेत जरूरी खाद्य सामग्री भिजवाने का सराहनीय काम करने के बीच व्या‍पार बढ़ाने के लिए एक और कदम बढ़ाया है। पूर्व रेलवे अंतर्गत हावड़ा डिवीजन ने छोटे और मझोले व्याापारियों की सुविधा के लिए एक ओर जहां “व्यापार माला एक्सप्रेस” की शुरुआत की है, वहीं पहली बार नमक का लदान भी शुरु कर दिया है। इससे समय पर जहां व्यापारियों का सामान गंतव्य तक पहुंचेगा वहीं रेलवे को भी खासा राजस्व का लाभ होगा।

देश में अनलॉक की शुरुआत होते ही रेलवे बोर्ड के निर्देश पर हावड़ा के मंडल रेल प्रबंधक इशाक खान के निर्देशन में वरिष्ठ मंडल वाणिज्य प्रबंधक राजीव रंजन की टीम ने व्यापारियों के साथ बैठक कर पार्सल एक्सप्रेस के माध्यम से व्यापार को बढ़ाने के लिए चर्चा की थी। इस पहल से रेल प्रशासन को काफी सफलता हासिल हुई थी जिससे रेलवे के राजस्व में भी काफी इजाफा हुआ था।

एक बार फिर हावड़ा रेल प्रशासन ने छोटे और मझोले व्यापारियों की सुविधा के लिए एक और कदम बढया है। इसके तहत समय पर गंतव्य तक सामान पहुंचाने को व्यापारियों के लिए विशेष सेवा की शुरुआत करते हुए गत 13 सितंबर को “व्याापार माला एक्सप्रेस” को रवाना किया गया।21 वैगन वाले पहले रैक को श्रीरामपुर से फालाकाटा तथा 21 वैगन वाले दूसरे रैक को सांईथिया से असम के अजारा के लिए रवाना किया गया। उक्त रैकों में 2667 टन सामान भेजा गया जिससे रेलवे को 25.94 लाख का राजस्व हासिल हुआ। इसके अलावा हावड़ा डिवीजन से पहली बार टाटा नमक का भी लदान किया गया।

19 सितंबर को पार्सल एक्सप्रेस के लिए 220 टन नमक को डानकुनी से असम के न्यू गुवाहाटी के लिए भेजा गया। इस लदान से रेलवे को बतौर भाड़ा 6.29 लाख की आय हुई। सीनियर डीसीएम राजीव रंजन ने बताया कि व्यापारियों की सुविधा के लिए रेलवे का प्रयास जारी रहेगा। व्यापारियों की मांग के अनुसार व्यापार माला एक्सप्रेस को देश के किसी भी राज्य में भेजने की व्यवस्था की जाएगी, ताकि कम समय में उनका माल पहुंच सके। 

ADVERTISEMENT