कोरोना की बढ़ी रफ्तार, बंगाल में लौटा लॉकडाउन, दिल्ली में फिर से केंद्र बनाम केजरीवाल


देश में कोरोना मरीजों का आंकड़ा 34 लाख के करीब पहुंच गया है. बीते दो दिनों में ही करीब डेढ़ लाख मामले सामने आए हैं. कोरोना की बेलगाम होती रफ्तार से राज्य सरकारें खौफजदा हैं. पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने लॉकडाउन की नई तारीखों का ऐलान किया है, तो टेस्टिंग को लेकर केजरीवाल सरकार और केंद्र सरकार आमने-सामने है.

शुरुआत करते हैं कोरोना आंकड़े से. वर्ल्डोमीटर के मुताबिक, देश में कुल मरीजों का आंकड़ा 33 लाख 84 हजार 575 है, जिसमें 61 हजार 694 लोगों की मौत हो चुकी है. कोरोना से अब तक 25 लाख 83 हजार 63 लोग ठीक हो चुके हैं, जबकि 7 लाख 39 हजार से अधिक एक्टिव केस है.

कोरोना की तेज होती रफ्तार को देखते हुए पश्चिम बंगाल सरकार ने हफ्ते में लगने वाले लॉकडाउन को बढ़ा दिया है. मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने नई तारीखों का ऐलान किया है. बंगाल में 31 अगस्त, 7 सितंबर, 11 सितंबर और 12 सितंबर को लॉकडाउन रहेगा. हालांकि, सरकार ने कोलकातावासियों को राहत देते हुए डोमेस्टिक फ्लाइट्स की इजाजत दे दी है.

वहीं, टेस्टिंग को लेकर केजरीवाल सरकार और केंद्र में फिर आरोप-प्रत्यारोप शुरू हो गया है. दिल्ली के स्वास्थ्य मंत्री सतेंदर जैन के आरोपों को गृह मंत्रालय ने खारिज कर दिया है. सतेंदर जैन ने कहा था कि केंद्र सरकार रोजाना 20 हजार से 40 हजार  टेस्टिंग करने से रोक रही है. गृह मंत्रालय ने इसे झूठ बताया.

गृह मंत्रालय की ओर से किए गए ट्वीट में कहा गया, 'दिल्ली के स्वास्थ्य मंत्री ने 27 अगस्त को केंद्रीय गृह सचिव को चिट्ठी लिखकर कहा कि केंद्र, दिल्ली में टेस्टिंग को बढ़ाने से रोक रही है. दिल्ली सरकार के अधिकारियों पर दबाव बनाया जा रहा है. यह आरोप झूठे और आधारहीन हैं.'

गृह मंत्रालय ने कहा, 'दिल्ली में कोरोना की स्थिति में उल्लेखनीय सुधार हुआ है. यह टेस्टिंग को बढ़ाने और अन्य उपायों के कारण संभव हुआ है. केंद्रीय गृह मंत्री के हस्तक्षेप के बाद ही दिल्ली में रोजाना 18 हजार टेस्ट हो रहे हैं, जो जून के मध्य तक करीब 4,000 प्रति दिन औसत था.'

ADVERTISEMENT