S-400-सुखोई-मिग, रूस दौरे पर राजनाथ करेंगे हथियारों-विमानों की जल्द डिलीवरी पर चर्चा


भारत और चीन के बीच बॉर्डर पर इन दिनों तनाव की स्थिति बनी हुई है. लद्दाख में दोनों देशों की सेनाएं लगभग पिछले डेढ़ महीने से आमने-सामने हैं, उसके बाद पिछले हफ्ते हिंसक झड़प में भारत के 20 जवान शहीद हो गए. इस सब हलचल के बीच रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह रूस में हैं, जहां उन्हें विक्ट्री डे परेड में शामिल होना है. लेकिन, रूस के दौरे का सिर्फ यही एक कारण नहीं है. ये दौरा खास इसलिए भी है क्योंकि इस दौरान भारत की ओर से रूस से ज़रूरी हथियारों की डिलीवरी जल्द करने को कहा जाएगा.

रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह सोमवार को ही रूस पहुंचे, आज वह बातचीत का सिलसिला शुरू करेंगे और बुधवार को विक्ट्री डे की परेड होनी है. इस दौरे में भारत की ओर से S-400 डिफेंस सिस्टम, सुखोई-30 MKIs, मिग-29 की जल्द डिलीवरी की अपील की जा सकती है.

दरअसल, रूस भारत का पुराना दोस्त रहा है और आज भी सबसे महत्वपूर्ण हथियार भारत रूस से ही लेता है. ऐसे में जब भारत और चीन के बीच स्थिति गंभीर बनी हुई है, तब राजनाथ सिंह का ये दौरा काफी मायने रखता है.

सूत्रों की मानें, तो रक्षा मंत्री रूस से अपील करेंगे कि जो ऑर्डर दिए गए हैं, उनकी डिलीवरी तुरंत हवाई मार्ग से करवा दी जाए ताकि ज़रूरत पड़ने पर उसका इस्तेमाल किया जा सके. खासकर अब जब लद्दाख में हालात लगातार तनावपूर्ण होते जा रहे हैं.

भारत पहले ही रूस को काफी सामान का ऑर्डर दे चुका है, जो नियमित वक्त पर समुद्री रास्ते से आना था. लेकिन अब क्योंकि हालात बदल चुके हैं, तो भारत इनकी सप्लाई तुरंत और हवाई मार्ग से चाहता है. अगर रूस और भारत की दोस्ती का रिकॉर्ड देखें, तो रूस इनकी डिलीवरी जल्द से जल्द कर भी सकता है.

आपको बता दें कि भारत और चीन के बीच जबसे तनाव शुरू हुआ है, तब से रूस लगातार एक्टिव है. एक ओर अमेरिका बयानबाजी कर रहा है, तो दूसरी ओर रूस लगातार अपडेट ले रहा है. तनाव की स्थिति के बीच भारत और रूस की कई बार बात भी हो चुकी है.

ADVERTISEMENT