Lockdown Bihar: बाहर फंसे बिहारी आप्रवासियों को ले बोले शरद यादव- PM मोदी जिम्‍मेदार, मदद करे सरकार


पूर्व सांसद (Ex MP) शरद यादव (Sharad Yadav) ने कहा कि केंद्र की नरेंद्र मोदी सरकार (Narendra Modi Government) की गलत नीतियों के कारण महानगरों से पैदल ही लोग अपने घरों को जाने के लिये मजबूर हुए हैं। ऐसे आप्रवासी मजदूरों (Migrant Labourers) की रास्ते में सामाजिक संगठनों और सभी देशवासी जी-जान से मदद करें।

उन्होंने कहा है कि कोरोना संकट के दौरान लागू किए गए तीसरे चरण के लॉकडाउन के दौरान सरकार द्वारा आप्रवासी मजदूरों को उनके गृह नगर तक भेजने की घोषणा को अब तक अमल में नहीं लाए जाने के कारण मजदूर पैदल ही निकल रहे हैं। सरकार के लगातार गलत फैसलों का खामियाजा इन्हें भुगतना पड़ रहा है।

आप्रवासी मजदूरों के साथ छात्रों को भी मुसीबत में डाला

कहा, केंद्र सरकार के अव्यावहारिक निर्णय ने सबसे ज्यादा आप्रवासी मजदूरों और अपने घर से दूर अध्ययनरत छात्रों को मुसीबत में डाला है। श्रमिकों का ये वो तबका है जो रोज कमाता है और अपने परिवार का पेट पालता है। जबकि, दूसरा तबका उन छात्रों का है जो अपने घरों से दूर रहकर अपना भविष्य बना रहे हैं। आज ये दोनों तबके सरकार की भ्रामक घोषणाओं और अनियोजित कार्यशैली के कारण कोरोना के खतरे के बीच सड़क पर आने को मजबूर हो गये हैं।

आप्रवासियों को कुछ भेज रहे वापस, कुछ ने मना किया

पूर्व सांसद ने कहा कि सरकार ने शुरू से भ्रम की स्थिति पैदा कर दी, जिसके कारण कुछ राज्य सरकारों ने आप्रवासी मजदूरों और छात्रों के लिये बसें भेजकर उन्हें घर पहुंचाना शुरु कर दिया। लेकिन कुछ राज्य सरकारों ने ऐसा करने से मना कर दिया। उन्होंने कहा कि देश में जब से कोरोना संकट उपजा है। तभी से यह सरकार कोई भी व्यावहारिक निर्णय नहीं ले पा रही है। इसकी वजह से हमारे मजदूर भाई-बहन सबसे ज्यादा परेशान  हुए हैं।


ADVERTISEMENT