अक्टूबर में खुदरा महंगाई दर 15 महीने में सबसे ऊपर, टमाटर-प्याज जिम्मेदार!


खुदरा महंगाई दर ने अक्टूबर महीने में झटका दिया है. सरकारी आंकड़ों के मुताबिक अक्टूबर में खुदरा मुद्रास्फीति 4.62 फीसदी पहुंच गई है. इससे पहले सितंबर महीने में खुदरा महंगाई दर 3.99 फीसदी पर थी. करीब 15 महीने के बाद महंगाई दर फिर से 4 फीसदी के ऊपर पहुंची है.

सब्जियां महंगी होने से महंगाई दर में इजाफा

दरअसल प्याज, टमाटर और अन्य सब्जियों की कीमतों में 26 फीसदी का इजाफा होने के कारण अक्टूबर में महंगाई दर 4.62 फीसदी दर्ज की गई. आरबीआई ने खुदरा महंगाई दर के लिए 4 फीसदी का अनुमान लगाया था. यह पिछले 15 महीनों का सर्वोच्च स्तर है.
आंकड़ों के मुताबिक कंज्यूमर प्राइस इंडेक्स (CPI) अक्टूबर में बढ़कर 4.62 फीसदी हो गई है. मिनिस्ट्री ऑफ स्टैटिस्टिक्स एंड प्रोग्राम इंप्लिमेंटेशन (MOSPI) के मुताबिक, खाने-पीने की चीजों के दाम बढ़ने के कारण यह तेजी आई है.

महंगाई दर पर काबू पाने के लिए कोशिश जारी

खुदरा महंगाई पर काबू पाने के लिए सरकार ने एक मीडियम टर्म इनफ्लेशन टारगेट तय किया है. इसके तहत मार्च 2021 तक महंगाई दर की ग्रोथ को 4 फीसदी बनाए रखने की कोशिश की जाएगी. अक्टूबर में फूड प्राइस की ग्रोथ 7.89 फीसदी रही.

गौरतलब है कि अर्थव्यवस्था की सुस्ती दूर करने के लिए RBI लगातार रेपो रेट में कटौती कर रहा है. लेकिन अक्टूबर में महंगाई दर एक बार फिर बढ़ गई है. इस साल अब तक RBI रेपो रेट में 1.35 फीसदी कटौती कर चुका है, रेपो रेट अभी 5.15 फीसदी है.