कश्मीरी पंडितों की घर वापसी के लिए 'इजरायली मॉडल' की चर्चा, PAK तिलमिलाया


अमेरिका में भारत के एक टॉप राजनयिक ने कहा है कि कश्मीरी पंडितों की वापसी के लिए भारत को कश्मीर में 'इजरायल मॉडल' अपनाना चाहिए और कश्मीरी पंडितों को वहां आबाद करना चाहिए. न्यूयार्क में भारत के काउंसल जनरल संदीप चक्रवर्ती ने कश्मीरी हिंदुओं के एक कार्यक्रम में कहा कि अगर इजरायली ऐसा कर सकते हैं तो हम भी कर सकते हैं.

संदीप चक्रवर्ती के इस बयान पर पाकिस्तान तिलमिला गया है. पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान ने कहा कि ये बयान मानवाधिकार के खिलाफ है. हालांकि राजनयिक संदीप चक्रवर्ती ने बाद में कहा कि उनके बयान का गलत अर्थ निकाला गया है.

इजरायली मॉडल की चर्चा

संदीप चक्रवर्ती न्यूयॉर्क में कश्मीरी पंडितों के एक कार्यक्रम में शिरकत कर रहे थे. इस दौरान उन्होंने जम्मू-कश्मीर से अनुच्छेद-370 को हटाने पर भी चर्चा की. इस कार्यक्रम में उन्होंने कहा, "मुझे भरोसा है कि जम्मू-कश्मीर में सुरक्षा के हालात सुधरेंगे, इससे रिफ्यूजियों को वापस लौटने में मदद मिलेगी, ऐसा होता आप अपनी जिंदगी में देख सकेंगे. आप वापस जा सकेंगे...आप अपने घर जा सकेंगे और आप सुरक्षा का एहसास कर सकेंगे, क्योंकि ऐसा होने का दुनिया में एक मॉडल है." दरअसल संदीप चक्रवर्ती का इशारा इजरायल की ओर था.

आगे उन्होंने कहा, "मुझे समझ में नहीं आता है हम लोग इसे फॉलो क्यों नहीं करते हैं. मिडिल ईस्ट में ऐसा हो चुका है, यदि इजरायल के लोग ऐसा कर सकते हैं, हमलोग भी कर सकते हैं."

इजरायल ने बसाई है बस्ती

बता दें कि 1967 के बाद से इजरायल ने वेस्ट बैंक और पूर्वी जेरुशलम में लगभग 140 कॉलोनियां बसाई है. कई अंतरराष्ट्रीय संगठन इन कॉलोनियों को अवैध मानते हैं."

पाकिस्तान को लगी मिर्ची

भारतीय राजनयिक के इस बयान से पाकिस्तान तिलमिला गया है. बुधवार को इमरान खान ने कहा कि ये भारत की मानसिकता को दिखाता है. इमरान खान ने एक ट्वीट कर कहा कि कश्मीर को लेकर ताकतवर देश चुप्पी साधे हुए हैं.

भारतीय राजनयिक ने कही पूरी बात

वहीं इस मु्ददे पर भारतीय राजनयिक ने कहा कि जम्मू-कश्मीर पर उनकी टिप्पणी और इजरायल के संदर्भ को गलत तौर पर पेश किया गया है. उन्होंने कहा, "मैंने अपने कमेंट पर सोशल मीडिया में टिप्पणियां देखी हैं, मेरे कमेंट गलत संदर्भ में देखा गया है."