About Me

header ads

रांची के शातिर का कारनामा, बिकी हुई जमीन पर लिया 90 लाख का लोन; जानें पूरा मामला


बिक्री की जा चुकी जमीन पर मॉरगेज लोन लेकर पंजाब नेशनल बैंक अरगोड़ा को 83 लाख रुपये का चूना लगाया गया है. इसे लेकर शाखा प्रबंधक रंजीत खलखो ने अरगोड़ा थाने में प्राथमिकी दर्ज कराई है. प्रबंधक ने एफआइआर में कहा है कि मेसर्स शुद्ध आटा के मालिक रमेश कुमार उर्फ रमेश महतो ने 90 लाख का लोन लेकर 83 लाख की निकासी कर ली। यह लोन ऐसे जमीन की डीड को मॉरगेज रखकर लिया गया, जिसे बेचा जा चुका है.

इसके अलावा बैंक ऑफ बड़ौदा से भी लोन ले रखा था. इसकी जानकारी तब हुई जब लोन की शर्तों के अनुसार लोन की रकम चुकता नहीं किया गया. इसके बाद 12 अप्रैल 2018 को लोन एनपीए कर दिया गया. एनपीए करने के बाद निलामी की प्रक्रिया के लिए जब नोटिस भेजा गया और प्रस्तुत करने का निर्देश दिया गया, तब पता चला कि उस जमीन को लोन के गारंटर राधेश्याम महतो ने ही बिक्री कर दी है.

बैंक ऑफ बड़ौदा से लोन की जानकारी भी छुपाई

प्रबंधक द्वारा दर्ज कराई गई एफआइआर में कहा गया है कि शुद्ध आटा के मालिक रमेश कुमार ने 15 दिसंबर को आवेदन दिया था. इस आवेदन को देने के बाद सात जनवरी 2016 को 30 लाख कैश क्रेडिट और 60 लाख मशीनरी व प्लांट के लिए स्वीकृत किया गया. इसके बाद दो डीड 11 और 12 जनवरी 2016 को मॉरगेज किया गया. इसके बाद लोन की नियमावली के अनुरूप चुकता नहीं किया गया. बैंक नोटिस व अन्य छानबीन में पता चला कि 12 जुलाई 2014 को भी रमेश ने मेसर्स नेचुरल आटा के नाम पर लोन ले रखा था. जिस जमीन पर प्लांट बनाया गया था वह जमीन भी बिक्री की हुई जमीन पर था.

21 डिसमिल जमीन को किया था मॉरगेज

लोन के लिए नगड़ी के साहेर स्थित 21 डिसमिल जमीन को मॉरगेज किया था. इस मॉरगेज लोन के लिए बैंक को दिए गए जमीन की जांच में बैंक को पता चला कि लोन के गारंटर ने डॉक्टर मुकेश कुमार को 12 नवंबर 2014 को ही बेच डाली थी। पुलिस अब पूरे मामले की जांच में जुट गई है.