विश्व मलेरिया दिवस पर 25 अप्रैल को चलेगा जन जागरुकता अभियान


 

पटना। स्वास्थ्य मंत्री श्री मंगल पांडेय ने कहा कि आगामी 25 अप्रैल को विश्व मलेरिया दिवस मनाया जाएगा। इस दौरान राज्य के प्रत्येक जिला मुख्यालय एवं प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्रों पर मलेरिया उन्मूलन से संबंधित जन जागरुकता अभियान चलाया जाएगा। साथ ही सरकारी स्कूल के बच्चों के द्वारा प्रभात फेरी निकाल लोगों में मलेरिया से बचाव के संदेश दिये जाएंगे। 

श्री पांडेय ने कहा कि स्वास्थ्य विभाग मलेरिया उन्मूलन के प्रति सजग है। राज्य में वर्ष 2015 की तुलना में वर्ष 2021 में 84 प्रतिशत मलेरिया के केस में कमी दर्ज हुई है। राज्य में वर्ष 2021 में कुल तीन लाख चार हजार 635 लोगों की मलेरिया की जांच की गई। इसमें महज 647 लोग ही मलेरिया से पीड़ित मिले। जबकि 2015 में इस रोग से चार हजार छह लोग पीड़ित मिले थे। वर्ष 2021 में राज्य के सभी 38 जिलों में से छह जिले ऐसे थे, जहां में एक भी व्यक्ति मलेरिया से पीड़ित नहीं मिला। इसमें भोजपुर, दरभंगा, किशनगंज, मधेपुरा, शेखपुरा और सिवान जिले शामिल हैं। जबकि वर्ष 2021 में ही राज्य के 26 जिलों में 20 से कम मलेरिया के रोगी मिले। 

श्री पांडेय ने कहा कि विभाग प्रति वर्ष राज्य के अति मलेरिया प्रभावित स्वास्थ्य उपकेंद्रों पर मच्छर की रोकथाम के लिए मापदंड के आधार पर दो चक्र डीडीटी का छिड़काव कराती है। साथ ही वर्ष 2022 में राज्य के 121 स्वास्थ्य उपकेंद्रों के 10 लाख 17 हजार 218 जनसंख्या के बीच डीडीटी छिड़काव का लक्ष्य है। राज्य में प्रति वर्ष मलेरिया से बचाव के लिए जन जागरुकता हेतु व्यापक प्रचार प्रसार किया जाता है। इसको लेकर स्वास्थ्य कर्मियों एवं आशा कार्यकर्ताओं को मलेरिया संबंधी प्रशिक्षण और उन्मुखीकरण कराया जाता है।  सरकार वर्ष 2027 तक राज्य से मलेरिया उन्मूलन के लक्ष्य हेतु अग्रसर है।