डेविड जूलियस और अरदम पैटापूटियन को चिकित्‍सा के क्षेत्र में दिया जाएगा 2021 का नोबेल पुरस्‍कार


फिजियोलाजी या चिकित्सा के क्षेत्र में मिलने वाले नोबेल पुरस्कार 2021 की घोषणा की गई है। डेविड जूलियस और अरदम पैटापूटियन ने तापमान और स्पर्श के लिए रिसेप्टर्स की अपनी खोजों के लिए शरीर विज्ञान या चिकित्सा में 2021 का नोबेल पुरस्कार जीता है। 

डेविड जूलियस ने त्वचा के तंत्रिका के अंत में एक सेंसर की पहचान करने के लिए मिर्च से एक तीखा यौगिक, जो जलन पैदा करता है। कैप्साइसिन का उपयोग किया है। जो गर्मी के प्रति प्रतिक्रिया करता है। इसके साथ ही अरदम पैटापूटियन ने सेंसर के एक नोवेल वर्ग की खोज के लिए दबाव-संवेदनशील कोशिकाओं का उपयोग किया जो त्वचा और आंतरिक अंगों में यांत्रिक उत्तेजनाओं को रिस्पांड करते हैं।

इन सफल वैज्ञानिकों ने गहन शोध गतिविधियों को शुरू किया जिससे यह समझने में तेजी से वृद्धि हुई कि तंत्रिका तंत्र गर्मी, ठंड और यांत्रिक उत्तेजनाओं को कैसे महसूस करता है।

नोबेल समिति की रिपोर्ट के अनुसार पुरस्कार विजेताओं ने इंद्रियों और पर्यावरण के बीच जटिल परस्पर क्रिया की समझ में महत्वपूर्ण लापता लिंक की पहचान की है। पहचाने गए आयन चैनल (ion channels) कई शारीरिक प्रक्रियाओं और रोग स्थितियों के लिए महत्वपूर्ण हैं।

बता दें कि 2021 के नोबेल पुरस्कारों में से सबसे पहला प्रतिष्ठित पुरस्कार की घोषणा इसी सप्ताह से शुरू की गई है। स्टाकहोम में करोलिंस्का संस्थान में एक पैनल द्वारा इन पुरस्कारों की घोषणा की गई है। नोबेल पुरस्कार रायल स्वीडिश एकेडमी ऑफ साइंसेज द्वारा प्रदान किया जाता है और इसकी कीमत 10 मिलियन स्वीडिश क्राउन (1.15 मिलियन अमेरिकी डालर) है।

गौरतलब है कि चिकित्सा क्षेत्र में पिछले साल का पुरस्कार तीन वैज्ञानिकों को मिला था, जिन्होंने लीवर को खराब करने वाले हेपेटाइटिस सी वायरस की खोज की थी। एक ऐसी सफलता जिसके कारण घातक बीमारी का इलाज हुआ और ब्लड बैंकों के माध्यम से इस बीमारी को फैलने से रोकने के लिए परीक्षण किए गए।