West Bengal Assembly Election 2021: मतगणना की तैयारी पूरी, बंगाल में 2116 प्रत्याशियों के भाग्य का फैसला कल

कोरोना महामारी के बीच हुए बंगाल विधानसभा चुनाव का नतीजा रविवार को आ जाएगा। 24 घंटे बाद किसका खेला शेष होगा इस पर सबकी नजर टिकी है। 2116 प्रत्याशियों के भाग्य का फैसला रविवार को होगा। चुनाव आयोग ने मतगणना की तैयारी पूरी कर ली है। राज्य के सभी मतगणना केंद्रों पर कोविड प्रोटोकॉल के पालन को लेकर के चुनाव आयोग प्रतिबद्ध है। साथ ही इसके लिए विशेष प्रबंध चुनाव आयोग की ओर से किया गया है। चुनाव आयोग की तरफ से इस सिलसिले में पहले ही कई आवश्यक दिशा निर्देश भी जारी किया जा चुका है। चुनाव आयोग के सूत्रों की मानें तो मतगणना केंद्र के 100 मीटर के दायरे में किसी भी वाहन को अनुमति नहीं होगी।

वोटों की गिनती के लिए सख्त नियम मतगणना केंद्र पर रहेगा। ऐसे में पहले की अपेक्षा इस बार मतगणना केंद्रों की चिर परिचित तस्वीर बदली नजर आएगी। चुनाव आयोग वोटों की गिनती के बारे में विशेष रूप से सावधान है। सभी व्यवस्था कोविड नियमों के अनुसार की गई हैं। कोविड को देखते हुए काउंटिंग हॉलों की संख्या बढ़ा दी गई है। यह निर्णय एक कमरे में कम संख्या में टेबल रखने को लेकर है। मतगणना केंद्र में त्रिस्तरीय सुरक्षा क्षेत्र है।

रविवार यानी कि, दो मई को 292 विधानसभा क्षेत्रों (शमशेरगंज और जंगीपुर को छोड़कर) उम्मीदवारों के भाग्य का फैसला होगा। हर बार राजनीतिक दलों के नेता और कार्यकर्ता मतगणना के बाद विजय जश्न मनाते हैं, हालांकि इस बार इस पर प्रतिबंध है।

मुख्य निर्वाचन अधिकारी (सीईओ) आरिज आफताब ने साफ कहा है कि कोरोना वायरस की गाइडलाइन का पालन करना अनिवार्य है। मतगणना की पूरी प्रक्रिया संचालित करने के लिए आयोग की ओर से ठोस इंतजाम मतगणना केंद्रों पर किए गए हैं। मतगणना केंद्र के अंदर टेबल की संख्या भी इस बार बढ़ाई जा रही है, ताकि सोशल डिस्टेंसिंग का पालन किया जा सके। राज्य के 108 मतगणना केंद्रों के अंदर ही कोविड प्रोटोकाल को लेकर आयोग सख्त रहेगा। इसके लिए राजनीतिक दलों के प्रत्याशियों से लेकर काउंटिंग एजेंट व मतगणना से जुड़े कर्मियों को आवश्यक दिशा-निर्देश पहले ही बताए जा चुके हैं। काउंटिंग एजेंट की कोविड निगेटिव रिपोर्ट अनिवार्य है। आयोग सूत्रों ने बताया कि मतगणना के दौरान हर घंटे ही सैनिटाइजेशन की प्रक्रिया चलाई जाएगी।