सबसे लोकप्रिय व्यावसायिक शहर के रूप में कोलकाता के साल्टलेक सिटी का जलवा कायम


वर्ष 2020 के दौरान कोलकाता में कार्यालय स्थलों के लिए 0.09 मिलियन वर्ग मीटर (0.92 मिलियन वर्गफीट) का सौदा हुआ है। इसकी जानकारी नाइट फ्रैंक इंडिया की ओर से कोलकाता में जारी प्रमुख अर्द्धवार्षिक रिपोर्ट - इंडिया रियल एस्टेट : एच2 2020 - के 14वें संस्करण में दी गई है। रिपोर्ट में जुलाई- दिसंबर 2020 (2020 की दूसरी छमाही) के लिए आठ प्रमुख शहरों में ऑफिस और रेसिडेंशियल स्‍पेस के बाजार के प्रदर्शन का विस्तृत विश्लेषण किया गया है।

इस मौके पर नाइट फ्रैंक इंडिया के शाखा निदेशक-कोलकाता, स्वपन दत्ता ने यहां जानकारी देते हुए बताया कि वर्ष 2020 की पहली तिमाही में 0.04 मिलियन वर्गमीटर (0.47 मिलियन वर्गफीट) के सौदे के साथ साल की शुरुआत 2019 के त्रैमासिक औसत पर 138 फीसद वृद्धि के साथ शानदार ढंग से हुई। किन्तु वैश्विक महामारी जनित लॉकडाउन के कारण 2020 की दूसरी तिमाही में लीज का कारोबार न्यूनतम स्तर पर रहा। लॉकडाउन खुलने के साथ जैसे-जैसे स्थिति सामान्य होने लगी, 2020 की तीसरी तिमाही में कार्यालय के लिए 2019 के तिमाही औसत के मुकाबले 62 फीसद ज्यादा लीज का कारोबार हुआ।

2020 की दूसरी तिमाही में शहर में सौदे का औसत आकार 1,313 वर्गमीटर (14,400 वर्गफीट) था। इस अवधि में कुल सौदों का करीब 71फीसद छोटे कार्यालय स्थलों के लिए था जो 1,486 वर्गमीटर (16,000 वर्गफीट) तक रहा। इसका श्रेय नई परिस्थिति (न्यू नॉर्मल) में काम करने के लिए सौदों को जाता है, जहां औषधि, परामर्शी, दूरसंचार और मीडिया क्षेत्र की कंपनियों ने सूक्ष्म बाजारों में छोटी जगहों को वरीयता दी। 2020 की दूसरी छमाही में इस शहर में मांग के अपेक्षा आपूर्ति कम थी, जिसके कारण लगातार तीसरे साल बिना बिके घरों के संख्या में गिरावट दर्ज की गई। 2020 में बिना बिके घरों की संख्या में वार्षिक 14 फीसद तक की गिरावट आई।

साल्टलेक सिटी अभी भी सबसे लोकप्रिय कारोबारी शहर

ऑक्‍यूपायर्स के बीच साल्टलेक सिटी अभी भी सबसे लोकप्रिय कारोबारी शहर बना हुआ है। यहां मुख्य रूप से लीज पर दिए गए कार्यालय स्थान से ही शहर के सौदों के सामान्य परिमाण का निर्धारण हुआ। 2020 की दूसरी छमाही में प्रतिशत परिवर्तन और बिकी इकाइयों की संख्या दोनों पैमाने पर बिक्री के परिमाण में दक्षिण कोलकता का सबसे ज्यादा हिस्सा बरकरार रहा।

वर्ष 2019 की दूसरी छमाही में कुल बिक्री के 35 फीसद हिस्से की तुलना में इस सूक्ष्म बाज़ार का हिस्सा वर्ष 2020 की दूसरी छमाही में तेजी से बढ़कर कोलकाता की कुल बिक्री का 42 फीसद हो गया। विशेषकर जोका, उभरती मेट्रो संयोजकता के कारण आवासीय इकाइयों की खपत के लिए प्रमुख स्थान था। 

ADVERTISEMENT