About Me

header ads

भारतीय बिजनेस पर कोरोना का कहर, मुश्किल में बनारस का साड़ी कारोबार


चीन में महामारी की शक्ल ले चुके कोरोना वायरस से भले ही अपने देश भारत में कोई मौत न हुई हो, लेकिन भारतीय कारोबार-उद्योग जगत तक इसका असर पहुंच गया है. कोरोना वायरस के परोक्ष प्रभाव के चलते पीएम मोदी के संसदीय क्षेत्र वाराणसी के 4.5 लाख से ज्यादा लोगों की आजीविका पर संकट के बादल दिख रहे हैं.

चीन की ओर से चाइनीज रेशम के निर्यात पर लगी रोक का असर बनारसी साड़ी इंडस्ट्री पर दिखने लगा है. ज्यादातर बनारसी साड़ी और ड्रेस मटेरियल में इस्तेमाल होने वाला चाइनीज रेशम अगर देश में आना जल्द शुरू नहीं हुआ तो बनारसी साड़ी का कारोबार टूटने लगेगा.

कच्चे माल के लिए उद्योगों की चीन पर बढ़ती निर्भरता का खामियाजा अब भुगतना पड़ रहा है. चीन ने अपने यहां से निर्यात होने वाले उत्पादों में से एक चाइनीज रेशम के भी निर्यात पर पूरी तरह रोक लगा दी है. इसके असर से अब बनारसी साड़ी और ड्रेस मटीरियल के निर्माण में दिक्कत की आहट सुनाई देने लगी है.

क्या कहते हैं कारोबारी

कोरोना वायरस की वजह से चीन सरकार ने चीनी रेशम के बाहरी मुल्कों में निर्यात पर रोक लगा दी है. इसकी जानकारी देते हुए साड़ी निर्माता राहुल मेहता बताते हैं कि सिर्फ वाराणसी में ही हैंडलूम, सेमी हैंडलूम और पावर लूम को मिलाकर 80 हजार की संख्या है, जिसका बेसिक राॅ मटीरियल रेशम है.

उन्होंने कहा कि अधिकतर मटीरियल चाइनीज रेशम के रूप में होता है, जिसे चीन से आयात किया जाता है. अब चाइनीज रेशम के क्राइसिस की आहट मिलना शुरू हो गई है. सिर्फ बनारस में ही लगभग 7 से 8 टन रेशम रोजाना खपत हो जाता है.

राहुल मेहता बताते हैं कि अगर कोरोना वायरस के चलते चाइनीज रेशम पर लगी रोक नहीं हटती है तो आगे उनका व्यापार प्रभावित होगा. इतना ही नहीं, वे बताते हैं कि इससे वाराणसी साड़ी उद्योग को प्रतिमाह डेढ़ से पौने दो सौ करोड़ रुपये का नुकसान हो सकता है.

उन्होंने कहा कि जिसके पास स्टॉक है वह आराम से बेच ले रहा है या साड़ी निर्माण करा रहा है, लेकिन नए ऑर्डर के लिए अगर चाइनीज रेशम राॅ मटीरियल के रूप में नहीं है तो साड़ी उद्योग की क्रेडिबिलिटी और मैन्युफैक्चरिंग दोनों पर ही असर पड़ रहा है.

उन्होंने बताया कि अगर चाइनीज रेशम पर लगी रोक नहीं हटती है तो दुनियाभर में भारत के एक्सपोर्ट की जो छवि है वह भी धूमिल हो जाएगी और बनारसी साड़ी उद्योग तो प्रभावित होगा ही.

कितने लोगों को मिला है रोजगार

उन्होंने बताया कि बनारसी साड़ी उद्योग से बनारस में प्रत्यक्ष और परोक्ष रूप से लगभग 4.5 लाख लोग जुड़े हुए हैं और उनकी आजीविका उसी पर आधारित है. इसलिए साड़ी निर्माण पर अगर कोई प्रभाव पड़ता है तो उसका असर अन्य चीजों पर भी दिखना शुरू हो जाएगा. सबकी चिंता यही है कि चाइनीज रेशम पर से रोक हटे और वायरस का प्रकोप खत्म हो, नहीं तो बनारसी साड़ी उद्योग को भारी नुकसान उठाना पड़ जाएगा.

बढ़ेगी बेरोजगारी

रोज दिहाड़ी मजदूरी करने वाले बुनकर लल्लन बताते है कि चाइनीज रेशम पर लगी रोक नहीं हटती तो साड़ी कारोबार कम हो जाएगा, क्योंकि राॅ मटेरियल ही नहीं मिल पाएगा. इससे काम करने वालों को काम भी नहीं मिलेगा. बुनकर बेरोजगार हो जाएंगे. इसके बारे में सरकार को कदम उठाकर कुछ नीति बनानी चाहिए, नहीं तो सभी बनारस के बुनकर बेरोजगार हो जाएंगे.