About Me

header ads

मेरीकॉम ने रचा इतिहास, 8वां विश्व चैम्पियनशिप मेडल किया पक्का


भारत की एमसी मेरीकॉम ने गुरुवार को विश्व महिला मुक्केबाजी चैम्पियनशिप के 51 किलोग्राम भारवर्ग के सेमीफाइनल में जगह बना ली है. 36 साल की मेरीकॉम ने क्वार्टर फाइनल में कोलंबिया की इंग्रीट वालेंसिया को 5-0 से मात दी. उन्होंने भारत के लिए एक पदक पक्का कर लिया है. इंग्रीट पैन अमेरिका विजेता हैं और रियो ओलंपिक-2016 में कांस्य पदक जीत चुकी हैं.

महिला विश्व मुक्केबाजी चैम्पियनशिप में मेरीकॉम का यह 8वां पदक होगा, अब देखना है कि वह किस पदक पर कब्जा करती हैं. मेरीकॉम के नाम पहले से ही विश्व चैम्पियनशिप में सर्वाधिक मेडल (6 गोल्ड+ एक सिल्वर) जीतने का रिकॉर्ड है. अब उनका रिकॉर्ड और पुख्ता हो गया है. आयरलैंड की केटी टेलर (5 गोल्ड+ 1 ब्रॉन्ज) पहले ही पिछड़ चुकी हैं.

48 किलोग्राम भारवर्ग में छह बार विश्व चैम्पियन रह चुकीं मेरीकॉम का यह 51 किलोग्राम भार वर्ग में विश्व चैम्पियनशिप में पहला पदक होगा. वह हालांकि इस भारवर्ग में 2014-एशियाई खेलों में स्वर्ण और 2018 एशियाई खेलों में कांस्य पदक भी जीत चुकी हैं. साथ ही इसी भार वर्ग में मेरीकॉम ने लंदन ओलंपिक-2012 में कांस्य जीता था.

अब शनिवार को सेमीफाइनल में तीसरी वरीय मेरीकॉम का सामना दूसरी वरीय तुर्की की बुसेनाज काकिरोग्लू से होगा, जो यूरोपियन चैम्पियनशिप और यूरोपियन गेम्स की मौजदा गोल्ड मेडलिस्ट हैं. क्वार्टर फाइनल जीतने के बाद मेरीकॉम ने कहा,' मैं पदक पक्का कर बहुत खुश हूं, लेकिन फाइनल में पहुंचकर इसे बेहतर बनाना चाहूंगी. यह मेरे लिए एक अच्छा मुकाबला था और अब सेमीफाइनल में इस प्रदर्शन में सुधार करने की कोशिश करूंगी.'

मेरीकॉम ने शुरुआत अच्छी की और दूरी बनाए रखते हुए दाएं जैब का इस्तेमाल किया. साथ ही वह दाएं हाथ से हुक भी लगा रही थीं. हल्के से बदले हुए स्टांस के साथ खेल रही मेरीकॉम बीच-बीच में चकमा दे बाएं जैब से सटीक पंच लगाने में भी सफल रहीं. अंत में दोनों खिलाड़ी आक्रामक हो गईं.

दूसरे दौर में दोनों मुक्केबाजों ने अच्छा किया, लेकिन मेरीकॉम अपनी विपक्षी से थोड़ा आगे रहीं. वह इंग्रीट के पास आते ही हुक का अच्छा इस्तेमाल कर रही थीं और यहीं वह इंग्रीट पर हावी रही थीं. तीसरे दौर में भी मेरीकॉम ने यही किया और जीत अपने नाम की.

मंजू रानी ने भी गुरुवार को सेमीफाइनल में पहुंचकर विश्व मुक्केबाजी चैम्पियनशिप में भारत के लिए एक और पदक पक्का कर लिया है. छठी सीड मंजू ने टॉप सीड उत्तर कोरियाई खिलाड़ी किम ह्यांग मी को 48 किलोग्राम वर्ग में 4-1 से हराया. किम ने नई दिल्ली में आयोजित 2018 संस्करण में कांस्य पदक जीता था.

उधर, जमुना बोरो ने 54 किलोग्राम भारवर्ग के सेमीफाइनल में जगह बना ली है. इसी के साथ जुमना ने भारत के लिए एक और पदक पक्का कर लिया है. भारत ने प्रतियोगिता में अबतक तीन पदक पक्के कर लिये हैं. जमुना ने क्वार्टर फाइनल में शानदार प्रदर्शन करते हुए जर्मनी की उर्साला गोटलोब को 4-1 से करारी शिकस्त दी.