About Me

header ads

बिहार में बाढ़ के बाद अब महामारी का कहर, डेंगू के 1184 तो चिकनगुनिया के 99 मरीज मिले


बिहार में अत्याधिक बारिश की वजह से 15 जिलों में उत्पन्न बाढ़ और जलजमाव के बाद अब महामारी की बारी है. पानी कम होने के साथ डेंगू और चिकनगुनिया जैसी बीमारियां कहर ढ़ाने लगी हैं. राज्य में अब तक डेंगू के 1184 और चिकनगुनिया के 99 मरीज मिले हैं.

मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने मुख्य सचिव दीपक कुमार और स्वास्थ्य विभाग के प्रधान सचिव संजय कुमारको निर्देश दिए हैं कि डेंगू से बचाव के लिए सभी प्रकार के सुरक्षात्मक उपाय किए जाएं. उन्होंने इस बीमारी के समुचित इलाज की व्यवस्था करने के निर्देश भी दिए हैं.

डेंगू के 30 से 40 प्रतिशत लार्वा घरों के अंदर

बुधवार को स्वास्थ्य विभाग के प्रधान सचिव संजय कुमार व राज्य स्वास्थ्य समिति के कार्यपालक  निदेशक मनोज कुमार ने बताया कि राज्य में डेंगू और चिकनगुनिया को देखते हुए नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ मलेरिया व नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ डायरिया के अलावा आरएमआरआइ (पटना) और स्वास्थ्य विभाग की टीमें लगातार जांच और बचाव अभियान चला रहीं हैं. नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ मलेरिया व नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ डायरिया की टीमों ने पिछले दिनों गर्दनीबाग और मलाही पकड़ी का सर्वेक्षण किया था. इनमें पाया गया कि डेंगू के 30 से 40 प्रतिशत लार्वा घरों के अंदर हैं. इसके बाद पटना में जिन स्थानों से जल-जमाव कम हो गया है, वहां टेमीफ्लॉश के साथ ब्लीचिंग पाउडर और चूने का छिड़काव कराया जा रहा है.

कालाजार की टीम आज से करेगी छिड़काव

प्रधान सचिव ने बताया कि गुरुवार से कालाजार के लिए गठित टीम घर-घर जाकर इनडोर रिशिडयूल स्प्रे का छिड़काव करेगी. इसके लिए 10 टीमें बनाई गईं हैं. इनमें चार टीमें कंकड़बाग, चार राजेंद्र नगर, दो पाटलिपुत्र कॉलोनी के अलग-अलग हिस्सों में स्प्रे करेंगी। यह अभियान अगले कुछ दिनों तक लगातार चलेगा.

गुरुवार से दो प्रमुख मेडिकल कॉलेजों में कैंप

प्रधान सचिव ने बताया कि डेंगू और चिकनगुनिया को देखते हुए गुरुवार से शनिवार तक पटना मेडिकल कॉलेज एवं अस्‍पताल (पीएमसीएच) और नालंदा मेडिकल कॉलेज एवं अस्‍पताल (एनएमसीएच) में कैंप लगाकर लोगों की जांच की जाएगी. साथ ही उनके इलाज की भी समुचित व्यवस्था की जाएगी. उन्होंने बताया यह निश्शुल्क कैंप हैं. प्रधान सचिव ने कहा कि डेंगू या चिकनगुनिया की वजह से लोग डरे नहीं.  उन्होंने कहा कि सरकारी ब्लड बैंक में प्लेटलेट्स की कोई कमी नहीं है.

पोलियो की टीम आज से घर-घर बांटेगी ब्लीचिंग चूने का पैकेट

पटना के वैसे मोहल्ले, जहां दो दिन पहले तक भारी जलजमाव था, में पोलियो की माइक्रो टीम गुरुवार से घर-घर जाकर ब्लीचिंग पाउडर और चूने का मिश्रण बांटेगी. स्वास्थ्य विभाग के प्रधान सचिव संजय कुमार ने लोगों से आग्रह किया है कि इस मिश्रण का छिड़काव लोग अपने घरों के अंदर और अगल-बगल में करें, ताकि मच्छरों को पनपने से रोका जा सके. फिलहाल 17 हजार पैकेट बनाए गए हैं। आवश्यकता पडऩे पर और पैकेट बनाए जाएंगे.