About Me

header ads

पैरों में हाथ जैसी अंगुलियां, दुर्लभ बीमारी से पीड़ित UP के इस परिवार पर होगा शोध


देश-दुनिया में अपनी तरह की अनोखी और पीढ़ी दर पीढ़ी फैलने वाली बीमारी (ऑटोसोमल डोमिनेंट) सामने आई है. इस अजीबोगरीब बीमारी से एक-दो नहीं बल्कि परिवार के पूरे आठ लोग पीड़ित हैं. इसमें पैर के पंजे हाथ की तरह पतले, लंबी और टेढ़ी अंगुलियों जैसे हो जाते हैं. हाथ की अंगुलियां भी एक में मिलने लगती हैं. व्यक्ति के चलने, सामान उठाने और रोजमर्रा के काम करने में बेहद परेशानी होती है.

कानपुर देहात के सीएमओ ने इस बीमारी के सामने आने के बाद गणेश शंकर विद्यार्थी मेमोरियल (जीएसवीएम) मेडिकल कॉलेज की प्रिंसिपल को शोध के लिए पत्र लिखा है. यहां के बाल रोग विभाग के चिकित्सकों ने पीड़ित परिवार को जांच के लिए बुलाया है. यह पहला मामला है, जिसमें परिवार के इतने लोग एक साथ पीड़ित हैं। यह बीमारी पीढ़ी दर पीढ़ी आगे बढ़ती है। इस परिवार में अब तक 12 लोग इस बीमारी की चपेट में आए चुके हैं। जिनमें चार की मौत हो चुकी है.

पीढ़ी दर पीढ़ी बढ़ी बीमारी 
अकबरपुर तहसील के जगजीवनपुर के बरकाती इस बीमारी से पीड़ित थे। उनकी मौत हो चुकी है. दो बेटे अशफाक व इशहाक एवं बेटी तजबुल को भी यह बीमारी हुई। तजबुल की भी मौत हो चुकी है. अब अशफाक के दो बेटे आठ साल के राशिद, 11 वर्षीय साहिल और बेटी पांच वर्षीय जेबा को यह बीमारी हो गई है। जबकि दो पीड़ित बेटों की मौत हो चुकी है. इसहाक की दो बेटियों 12 वर्षीय जैनब, छह वर्षीय आफरीन और बेटे आठ वर्षीय अरशद को भी इस बीमारी ने नहीं छोड़ा. तजबुल की एक बेटी है और उसमें भी इस बीमारी के लक्षण हैं। खास बात यह है कि बरकाती, अशफाक और इशहाक की पत्नियों को यह बीमारी नहीं हुई. 

फोटो व अन्य रिकार्ड देखकर लग रहा है कि यह जेनेटिक ऑटोसोमल डोमिनेंट रोग है. यह लाखों लोगों में किसी एक को ही होता है। इसके पीछे समान ब्लड ग्रुप या बेहद नजदीकी संबंधों में विवाह, इंजेक्शन से नशा लेने की लत माना जाता है. एक परिवार में इतने पीड़ित होने का मामला पहली बार सामने आया है. उन्हें जांच के लिए बुलाया गया है.
- डॉ. एके आर्या, बाल रोग विशेषज्ञ, जीएसवीएम मेडिकल कॉलेज