About Me

header ads

बेटी के हाथों कर्मकांड, इलेक्ट्रिक शवदाह, अंतिम यात्रा में भी बड़ा संदेश दे गईं सुषमा स्वराज


भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) की वरिष्ठ नेता और पूर्व विदेश मंत्री सुषमा स्वराज का राजकीय सम्मान के साथ आज बुधवार को अंतिम संस्कार कर दिया गया. स्थापित मान्यताओं के विपरीत जाकर सुषमा की बेटी बांसुरी स्वराज ने अंतिम संस्कार की सभी रस्में पूरी की और इसके बाद दिल्ली के लोधी रोड स्थित शवदाह गृह में उनका अंतिम संस्कार किया गया.

पूर्व विदेश मंत्री सुषमा स्वराज का एम्स में मंगलवार रात निधन हो गया था. सुषमा स्वराज का अंतिम संस्कार उनकी बेटी बांसुरी ने किया. ऑक्सफोर्ड यूनिवर्सिटी से ग्रेजुएट बांसुरी स्वराज दिल्ली हाईकोर्ट और सुप्रीम कोर्ट में प्रैक्टिस करती हैं. सुषमा के अंतिम संस्कार के दौरान पति स्वराज कौशल भी मौजूद थे. बांसुरी सुषमा की एकमात्र संतान हैं और उन्होंने ही उनके अंतिम संस्कार के सभी रस्मों को पूरा किया.

रुढ़िवादी भारत में जहां बेटे या पति के हाथों अंतिम संस्कार संपन्न कराया जाता है, लेकिन सुषमा स्वराज के अंतिम संस्कार की सभी रस्में उनकी बेटी द्वारा पूरी की गईं .

प्रखर वक्ता के रूप में अमिट छाप छोड़ने वाली सुषमा स्वराज के अंतिम संस्कार के दौरान प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, बीजेपी के वरिष्ठ नेता लालकृष्ण आडवाणी और गृह मंत्री अमित शाह समेत कई बड़े नेता अंतिम संस्कार में मौजूद रहे.

इससे पहले उपराष्ट्रपति वेंकैया नायडू, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, गृह मंत्री अमित शाह, लोकसभा स्पीकर ओम बिड़ला ने भी सुषमा स्वराज को अंतिम श्रद्धांजलि दी. सुषमा को श्रद्धांजलि देते वक्त वेंकैया नायडू रो पड़े.

एम्स में मंगलवार रात निधन होने के बाद सुषमा स्वराज के पार्थिव शरीर को आज बुधवार को अंतिम दर्शन के लिए बीजेपी मुख्यालय में रखा गया था. इसके बाद सुषमा के पार्थिव शरीर को केंद्रीय मंत्रियों राजनाथ सिंह, जेपी नड्डा, रविशंकर प्रसाद और पीयूष गोयल ने भी कंधा दिया.