About Me

header ads

जम्मू-कश्मीर और लद्दाख में दिल्ली से जाकर तिरंगा फहराएंगे BJP के बड़े नेता


जम्मू-कश्मीर और लद्दाख में इस बार स्वतंत्रता दिवस कुछ खास होगा. पहले की तुलना में इस बार और धूमधाम से स्वतंत्रता दिवस मनाने की तैयारी है. वजह कि जम्मू-कश्मीर को विशेषाधिकार देने वाले अनुच्छेद 370 के हटने और केंद्रशासित प्रदेश होने के बाद यह पहला स्वतंत्रता दिवस होगा. बीजेपी ने बंपर तरीके से स्वतंत्रता दिवस मनाकर घाटी के अलगाववादियों और आतंकियों को दो टूक संदेश देने की तैयारी की है. बीजेपी के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष और जम्मू-कश्मीर के चुनाव प्रभारी अविनाश राय खन्ना मंगलवार को जम्मू-कश्मीर पहुंच गए. वह स्वतंत्रता दिवस तक राज्य में रहेंगे और झंडा फहराकर ही लौटेंगे.

अविनाश राय खन्ना जम्मू के कठुआ में तिरंगा फहराएंगे. इसी तरह पार्टी के महासचिव और लंबे समय से जम्मू-कश्मीर के मामले को देख रहे राम माधव भी लेह-लद्दाख जाएंगे. बीजेपी की जम्मू-कश्मीर इकाई ने राम माधव के भी कार्यक्रम की पुष्टि की है. बीजेपी के जम्मू-कश्मीर प्रदेश अध्यक्ष रवींद्र रैना के मुताबिक कश्मीर और लद्दाख में झंडा फहराने के कार्यक्रम को अंतिम रूप दिया जा रहा है.

बीजेपी के सूत्रों का कहना है कि अब तक स्वतंत्रता दिवस पर घाटी में अलगाववादी और आतंकी मिलकर बंद का आह्वान करते थे. वह इस दिन देश विरोधी आयोजन करते थे. ऐसे में चूंकि अब जम्मू-कश्मीर में शासन व्यवस्था अपने अनुकूल है. राज्य में राज्यपाल शासन लागू है, अनुच्छेद 370 पर लिए गए ऐतिहासिक फैसले से घाटी में लागू विशेषाधिकार भी खत्म कर दिया गया है. लिहाजा 15 अगस्त को तिरंगा फहराकर बड़ा संदेश दिया जाएगा.

दिल्ली से आने वाले बड़े नेताओं के साथ हर गांव और पंचायत में सरपंचों की ओर से झंडा फहराए जाने का प्लान तैयार किया गया. ताकि घाटी में अलगावादियों और आतंकियों को संदेश दिया जाए कि अब उनकी दाल नहीं गलने वाली है. घाटी की आम जनता राष्ट्रवाद और देश की मुख्यधारा से जुड़ना चाहती है.