About Me

header ads

MS Dhoni: आतंकियों के गढ़ दक्षिण कश्मीर में पेट्रोलिंग करते नजर आएंगे धौनी


क्रिकेट के मैदान में चौकों-छक्कों की झड़ी लगाकर बड़ी-बड़ी टीमों के हौसले पस्ते कर देने वाले भारतीय क्रिकेट टीम के पूर्व कप्तान और ऑनरेरी लेफ्टिनेंट कर्नल महेंद्र ¨सह धौनी जल्द ही आतंकियों का गढ़ कहे जाने वाले दक्षिण कश्मीर में जवानों के साथ ऑपरेशनल ड्यूटी करते और पेट्रोलिंग करते नजर आएंगे।

रक्षा मंत्रालय और सैन्य प्रशासन ने उन्हें कश्मीर में सेना के साथ सक्रिय ड्यूटी निभाने की अनुमति दे दी है। वह इसी माह 31 जुलाई को कश्मीर में अपनी नई जिम्मेदारी संभाल लेंगे। यह पहला मौका होगा जब वह आम सैन्य अधिकारियों की तरह कश्मीर में लगभग 15 दिन रहेंगे।

श्रीनगर में सेना के एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया कि महेंद्र ¨सह धौनी 2012 में भी कश्मीर में करीब एक सप्ताह तक सेना के साथ रहे थे। उस समय उन्होंने विभिन्न जगहों पर सैन्यकर्मियों और अधिकारियों के बीच जाकर उनका मनोबल बढ़ाया था। वह उड़ी सेक्टर समेत उत्तरी कश्मीर में एलओसी के साथ सटे विभिन्न अग्रिम इलाकों में भी गए थे। इसके बाद वह दो साल पहले 2017 में भी कश्मीर आए थे और सेना की ओर से आयोजित विभिन्न कार्यक्रमों में भाग लिया था।

पेट्रोलिंग यूनिट का हिस्सा होंगे धौनी 

अधिकारी ने बताया कि यह पहला मौका होगा जब वह आम सैन्य अधिकारियों की तरह कश्मीर में लगभग 15 दिनों तक रहेंगे। उन्हें दक्षिण कश्मीर में किस जगह तैनात किया जाएगा, यह अभी तय नहीं है, लेकिन वह इन दिनों एक लेफ्टिनेंट कर्नल द्वारा अंजाम दी जाने वाली हर प्रकार की ड्यूटी निभाएंगे। दक्षिण कश्मीर में जहां भी उनकी यूनिट का दस्ता पेट्रो¨लग के लिए जाएगा, वह उसका हिस्सा बनेंगे।

इसके अलावा वह गार्ड और पोस्ट ड्यूटी भी करेंगे। यह पूछे जाने पर कि क्या वह किसी जगह विशेष पर आतंकियों के खिलाफ चलाए जाने वाले अभियान का हिस्सा बनेंगे तो उक्त अधिकारी ने कहा कि अभी यह तय नहीं है, लेकिन सेना की 106 टीए बटालियन में बतौर लेफ्टिनेंट कर्नल वह अपने पद और जिम्मेदारियों के मुताबिक हर गतिविधि में शामिल होंगे।

आतंकरोधी अभियानों की कमान संभाल रही धौनी की बटालियन

महेंद्र सिंह धौनी को भारतीय सेना ने करीब आठ साल पहले 2011 में अपना ब्रांड अंबेस्डर बनाते हुए 106 टेरीटोरियल आर्मी बटालियन (पैरा) में ऑनरेरी लेफ्टिनेंट कर्नल का पद प्रदान किया था। उनकी बटालियन इन दिनों दक्षिण कश्मीर में आतंकरोधी अभियानों की कमान संभाल रही सेना की विक्टर फोर्स के अधीन है।

धौनी ने चार साल पहले की थी पैराशूट ट्रेनिंग 

धौनी ने पिछले दिनों रक्षा मंत्रालय से अपनी रेजीमेंट में सेवा देने की इच्छा जाहिर की थी, जो मंजूर कर ली गई है। इसके लिए उन्होंने क्रिकेट से दो महीने का ब्रेक भी लिया है। इसलिए धौनी टीम के साथ वेस्टइंडीज दौरे पर भी नहीं जा रहे। यह पहली बार नहीं है जब धौनी ने रेजीमेंट में रहकर दूसरे सैनिकों की तरह ड्यूटी निभाने की इच्छा जाहिर की हो।

करीब चार साल पहले धौनी ने आगरा ट्रेनिंग कैंप में भाग लेकर भारतीय सेना के विमान से पैराशूट ट्रे¨नग पूरी की और एक योग्य पैराट्रूपर बन गए। उन्होंने इस ट्रेनिंग के दौरान पांच बार विमान से पैराशूट के साथ जंप किया था।