About Me

header ads

Madhya Pradesh: भाजपा को लगे झटके से शाह नाराज, डैमेज कंट्रोल में जुटे पार्टी के वरिष्ठ नेता


विधानसभा के बजट सत्र के आखिरी दिन भाजपा छोड़ कांग्रेस का साथ देने वाले दो विधायकों की घटना से हाईकमान नाराज है। पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह और कार्यकारी अध्यक्ष जेपी नड्डा ने पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान और प्रदेशाध्यक्ष राकेश सिंह से फोन पर बातचीत की और नाराजगी जाहिर की।

शाह ने साफतौर पर प्रदेश नेतृत्व की कमजोरी को इस घटना का जिम्मेदार माना। पार्टी के उच्च पदस्थ सूत्रों का कहना है कि शाह की नाराजगी के बाद प्रदेश भाजपा कार्यालय में शिवराज, राकेश सिंह, सुहास भगत और नेता प्रतिपक्ष गोपाल भार्गव ने बैठक की और दोनों बागी विधायकों से बातचीत की कोशिश की, लेकिन वे मोबाइल फोन पर उपलब्ध नहीं हुए। इसके बाद शिवराज भोपाल से रवाना हो गए, वे दिल्ली में होने वाली संसदीय बोर्ड की बैठक में भी शामिल होंगे। पार्टी सूत्रों का कहना है कि शिवराज इस दौरान शाह को अपना स्पष्टीकरण दे सकते हैं।

डैमेज कंट्रोल की कवायद शुरू

ब्यौहारी विधायक शरद कोल और मैहर विधायक नारायण त्रिपाठी ने बुधवार को विधानसभा में दंड विधि संशोधन विधेयक पर हुए मत विभाजन में कांग्रेस के पक्ष में मतदान किया था। इसके बाद से भाजपा की सियासत में बवाल आ गया है। पार्टी ने आनन-फानन में प्रदेशाध्यक्ष राकेश सिंह को भोपाल भेजा और डैमेज कंट्रोल की कवायद शुरू की पर उन्हें आंशिक सफलता भी नहीं मिली। इस दौरान पूर्व मंत्री नरोत्तम मिश्रा, भूपेंद्र सिंह और विश्वास सारंग भी प्रदेश कार्यालय में दिग्गजों के साथ सक्रिय रहे।

भार्गव से नाराज पार्टी

सूत्रों का कहना है कि नेता प्रतिपक्ष गोपाल भार्गव द्वारा नंबर वन और नंबर टू संबंधी दिए बयान से हाईकमान नाराज है। पार्टी नेताओं की मानें तो उन्हें अंतिम चेतावनी दी गई है कि वे अपने बयानों पर लगाम लगाएं, वरना नेता प्रतिपक्ष पद से हाथ धोना पड़ सकता है। भार्गव ने लोकसभा चुनाव के बाद फ्लोर टेस्ट का बयान दिया था, तब भी पार्टी ने कहा था कि इस बयान से उनका लेना-देना नहीं है।

भाजपा में सब कुछ सामान्य होने का दावा

भाजपा के प्रदेशाध्यक्ष राकेश सिंह ने कहा कि पार्टी में सब कुछ सामान्य है। तनाव में कांग्रेस है और वह जबरिया अपनी ताकत दिखाने के लिए उल्टे सीधे काम कर रही है। उन्होंने कहा कि भाजपा न तो पहले सरकार गिराने के पक्ष में थी और न उसका ऐसा कोई इरादा है। पूर्व मंत्री भूपेंद्र सिंह ने कहा कि कांग्रेस हॉर्स ट्रेडिंग को बढ़ावा दे रही है। नेता प्रतिपक्ष गोपाल भार्गव ने कहा कि कांग्रेस जिस पर खुशी मना रही है, ये फ्लोर टेस्ट नहीं है। हम सब एक हैं। दोनों विधायकों से भी हम बात कर रहे हैं। वक्त आने पर हम अपनी एकजुटता साबित कर देंगे।