About Me

header ads

INSTA पर सेलिब्रिटीज की प्रोफाइल है फेक, 1.6 करोड़ भारतीय प्रभावशाली लोगों का अकाउंट पाया गया फर्जी


फेसबुक के स्वामित्व वाले इंस्टाग्राम पर 1.6 करोड़ भारतीय प्रभावशाली लोगों के अकाउंट फर्जी हैं। ऐसे लोगों द्वारा कृत्रिम रूप से वेनिटी मेट्रिक्स (खरीदारी के लिए फर्जी आंकड़े) को बढ़ावा देने का काम किया जाता है। स्वीडिश ई-कामर्स स्टार्ट अप 'एक गुड कंपनी' और डाटा एनालिटिक्स फर्म 'हाइपआडिटर' द्वारा मिलकर किए गए अध्ययन में इस बात का पता चला है।

अध्ययन के दौरान 82 देशों के एक करोड़ 84 लाख अकाउंट का आकलन किया गया। इसमें पता चला कि सबसे अधिक चार करोड़ 90 लाख फेक अकाउंट अमेरिका में हैं। इसके बाद ब्राजील का नंबर आता है। जहां दो करोड़ 70 लाख फेक अकाउंट हैं। जबकि भारत में इसकी संख्या एक करोड़ 60 लाख है।

मार्केटिंग फर्म मीडियाकिक्स के मुताबिक इंस्टाग्राम पर धोखाधड़ी का बाजार जो कभी पांच हजार करोड़ से ज्यादा का था वह अब लगभग 11,000 करोड़ के आसपास पहुंच गया है। वहीं इस सोशल मीडिया प्लेटफार्म पर प्रभावशाली लोगों की मार्केटिंग इस साल के अंत तक 13 हजार करोड़ तक पहुंच सकती है। 2017 में यह 6800 करोड़ थी। ए गुड कंपनी के सीईओ एंडर्स एनकार्लिड ने पीआर वीक को बताया कि कंपनियां यह सोचकर प्रभावशाली मार्केटिंग में पैसा लगाती हैं कि वे वास्तविक लोगों से जुड़ रही हैं, लेकिन हकीकत में उनका पैसा बर्बाद जा रहा है।

दरअसल, सोशल मीडिया प्लेटफार्म की लोकप्रियता ने प्रभावशाली मार्केटिंग की एक नई विज्ञापन व्यवस्था को खोला है। विश्व भर में इंस्टाग्राम के एक अरब मासिक सक्रिय यूजर है। जबकि इसकी मूल कंपनी फेसबुक के दो अरब 38 करोड़ से अधिक मासिक सक्रिय यूजर हैं। जबकि प्रत्येक दिन 1.6 करोड़ लोग ट्विटर पर लॉग इन करते हैं।

वाट्सएप भी सोशल मीडिया का एक शक्तिशाली मंच है, जिसके भारत में 30 करोड़ यूजर हैं। सोशल मीडिया प्लेटफार्म पर जिस तरह के विचार सामने आते हैं, उससे प्रभावित होने वाली मार्केटिंग व्यवस्था कितनी बड़ी हो सकती है, इसका सहज ही अनुमान लगाया जा सकता है। सोशल मीडिया पर ऐसे कई एप हैं जिसके माध्यम से पता लगाया जा सकता है कि कौन वास्तविक प्रभावशाली है। हालांकि जागरूकता के अभाव में भारत में यह पता करना मुश्किल है कि कौन सी पोस्ट असली है।