About Me

header ads

उत्‍तर प्रदेश, बिहार और असम में बाढ़ का कहर


देश के अधिकतर हिस्सों में भारी बारिश के बाद आई बाढ़ से हालात बेकाबू हो गए हैं। उत्‍तर प्रदेश, बिहार और असम में 33 लाख से ज्‍यादा लोग बाढ़ की चपेट में हैं। उत्‍तर प्रदेश में कई जिलों में नदियों का जलस्तर खतरे के निशान से ऊपर पहुंच गया है। असम के 33 में से 25 जिलों में बाढ़ की वजह से करीब 15 लाख लोग प्रभावित हैं। बिहार में बाढ़ से अब तक 29 लोगों की मौत हुई है और आठ जिले प्रभावित हैं।सरकारी अनुमान के मुताबिक, राज्‍य में लगभग 18 लाख लोग बाढ़ से प्रभावित हुए हैं। नेपाल में बाढ़ और भूस्खलन की वजह से अब तक 65 लोगों की मौत हो गई है जबकि 24 से ज्यादा लोग लापता हैं। 

बिहार में उफनाई नदियों का पानी उत्तर बिहार, कोसी और सीमांचल के जिलों के गांव और शहर में घुसकर कहर ढा रहा है। रविवार की सुबह मधुबनी में सात और दरभंगा में चार जगहों पर तटबंध टूट गए। इससे दर्जनों गांवों में पानी घुस गया है। विभिन्न जगहों पर 23 लोगों की डूबने से मौत हो गई। इनमें उत्तर बिहार में 19 और सीमांचल में 4 लोगों की मौत की खबर है। बिहार के जिन इलाकों में बाढ़ का सबसे ज्यादा असर है, उनमें अररिया, किशनगंज, सुपौल, दरभंगा, शिवहर, सीतामढ़ी, पूर्वी चंपारण, मधुबनी जिला शामिल हैं। बाढ़ से अररिया में अबतक 9 लोगों की मौत हो चुकी है, तो वहीं मोतिहारी में बाढ़ से मरने वालों का आंकड़ा 10 पहुंच गया है। 

नेपाल में मूसलधार बारिश के कारण आई बाढ़ और भूस्खलन से अब तक 65 लोगों की जान जा चुकी है। नेपाल पुलिस के अनुसार, 33 लोग लापता हैं जिनकी खोज जारी है। दो हजार लोगों को बचाया गया है। लगातार हो रही बारिश के कारण पूर्वी और दक्षिणी नेपाल के कई इलाके भूस्खलन और बाढ़ के खतरे का सामना कर रहे हैं। मौसम विभाग ने देश के कई हिस्सों में अभी दो-तीन दिनों तक बारिश जारी रहने की आशंका जताई है। बाढ़ के कारण कई मुख्य राज्यमार्गों पर यातायात ठप है। देश के ज्यादातर इलाके जलमग्न हैं। ढाई हजार से ज्यादा घरों में पानी घुस गया है। करीब 1,500 परिवारों को सुरक्षित स्थान पर पहुंचाया गया है। प्रभावित इलाकों में 27 हजार से ज्यादा पुलिस और सुरक्षाबल तैनात किए गए हैं।