About Me

header ads

क्या चांद पर मानव बस्ती बन पाएगी? Chandrayaan-2 से क्या है उम्मीद क्या चंद्रयान जैसे मून मिशन भेजने का म


भारतीय अंतिरक्ष अनुसंधान संगठन (ISRO) कुछ घंटे बाद 15 जुलाई यानी देर रात 2.51 बजे अपना मून मिशन चंद्रयान-2 चांद के लिए लॉन्च करेगा. इससे सिर्फ एक बात जहन में आती है कि आखिर चांद पर इंसान जाना ही क्यों चाहता है? साल 1950 में किसी ने नहीं सोचा था कि कि अगले दो दशकों में लोग चांद की सतह पर पहुंच जाएंगे.

क्या चंद्रयान जैसे मून मिशन भेजने का मकसद चांद पर इंसानी बस्ती बनाने की शुरुआत है? ये चर्चा 2008 में भी हुई थी जब चंद्रयान-1 चांद पर गया था. तब भी विख्यात वैज्ञानिक प्रो. यशपाल ने कहा था कि निकट भविष्य में तो यह संभव नहीं है, लेकिन 50 से 75 साल में इंसान चाहे तो चांद पर बस्ती बसा सकता है. लेकिन उसके लिए तो लाखों करोड़ों रुपयों की जरूरत पड़ेगी. अमेरिका, रूस, चीन जैसे देश ये कर सकते हैं लेकिन भारत को ऐसा करने में कम से कम 100 से 150 साल लग जाएंगे.

सवाल ये है कि चांद पर ही बस्ती क्यों बनाई जाएं?

बस्तियां बसाने के लिए हम चाँद पर ही क्यों जाएं? स्पेस मिशन के करीब 60 वर्ष हो चुके हैं. एक तरह से देखे तो हमें इसका जवाब मिलता दिखता है. हम बस्ती बनाने का प्रयास कर सकते हैं क्योंकि हमारे पास संचार प्रणाली है. हम मौसम का पूर्वानुमान लगा सकते हैं. जलवायु परिवर्तन समझ सकते हैं. हमारे पास जीपीएस है. धरती और इसके पर्यावरण के बारे में गहन जानकारी और आपदाओं की चेतावनी हैं.

टेक्नोलॉजी दिनोदिन आधुनिक हो रही है. इन्फ्रा-रेड इयर थर्मामीटर और एलईडी आधारित उपकरण चांद पर मददगार साबित होंगे. इंसान 6 बार पहले ही चांद पर पांव के निशान छोड़ आया है. अपोलो 17 मिशन सबसे अधिक तीन दिनों तक चाँद पर रहा था, जहां 3.8 करोड़ वर्ग किलोमीटर जमीन है.

करीब 2.40 लाख करोड़ का खर्च आएगा इंसान को चांद पर ले जाने और वापस लाने में

अमेरिका ने जितनी बार चांद पर मानव मिशन भेजा उसका खर्च साल-दर-साल बढ़ता चला गया. आज की तारीख में दो लोगों को चांद पर भेजकर, कुछ दिन वहां बिताकर लौटने में कम से कमा 2.40 लाख करोड़ रुपयों का खर्च आएगा. इससे ज्यादा पैसा लगेगा चांद पर हवा और पानी बनाने में.

हमें पता है कि चांद पर बड़ी मात्रा में बर्फीला पानी है. चट्टानों में ऑक्सीजन कैद है. इसलिए चांद के भावी नागरिकों के लिए हवा और पानी की जरूरतें पूरी हो सकती है. लेकिन अभी तक हवा और पानी की सही मात्रा का अंदाजा नहीं लगाया जा सका. हालांकि भविष्य में संभावनाएं अच्छी हैं. चाँद पर जाने की अन्य वजहें हैं - वहां हीलियम की बड़ी मात्रा, जिसका उपयोग ऊर्जा के लिए हो सकता है और पर्यटन.