About Me

header ads

भाभी की हत्या कराने के लिए ननद ने दी पांच लाख की सुपारी, जानिए- क्या है मामला


अपनी भाभी से परेशान ननद ने उनकी हत्या कराने के लिए अपने गांव के एक व्यक्ति को सुपारी दी थी। उस व्यक्ति ने रायसेन जिले से दो शूटर बुलवाए और महिला की गोली मारकर हत्या करा दी। दो आरोपितों से एक को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया था, जब उससे पूछताछ की गई तो महिला की सुपारी देने वाली ननद को भी गिरफ्तार कर लिया। मामला मध्यप्रदेश के दमोह से करीब 16 किमी दूर नरसिंहगढ़ गांव का है।

18 जून को महिला आरती पति मनीष तिवारी के घर दोपहर में बाइक से दो आरोपित पहुंचे और उनमें से एक ने घर में जाकर महिला पर गोली चला दी, जिससे आरती की मौत हो गई। इसके बाद बाइक पर बैठा आरोपित भाग निकला और गोली चलाने वाले आरोपित रायसेन निवासी निगम सिंह धाकड़ को पुलिस ने लोगों की मदद से गिरफ्तार कर लिया।

पांच लाख रुपये की सुपारी दी थी

पूछताछ में निगम सिंह धाकड़ ने बताया कि नरसिंहगढ़ निवासी मोनू पाराशर नाम के व्यक्ति ने उसके दोस्त रवि परमार को आरती की हत्या करने  के लिए पांच लाख रुपये की सुपारी दी थी। मोनू ने बतााया था कि अनीता अवस्थी की भाभी की हत्या करना है।

भाभी ने सभी को कर रखा था परेशान

ननद अनीता ने पूछताछ में कहा कि भाभी आरती ने उसके भाई व मां को काफी परेशान कर रखा था। वह पति के साथ मारपीट करती थी और सास की पेंशन व अन्य पैसा अपने पास रखती थी। उससे भाई व मां की तकलीफ देखी नहीं जा रही थीं, इसलिए उसने तय किया कि वह उसको रास्ते से हटा देगी। आरोपित महिला नरसिंहगढ़ ग‌र्ल्स छात्रावास में अधीक्षक है।

मोनू ने कहा 5 लाख में हो जाएगा काम

आरोपित महिला ने पुलिस को बताया कि उसने अपनी परेशानी नरसिंहगढ़ निवासी मोनू पाराशर से बताई तो उसने कहा कि यदि वह अपनी भाभी को रास्ते से हटाना चाहती है तो उसके पास ऐसे लोग हैं जो ये काम आसानी से कर देंगे और किसी को भनक तक नहीं होगी। महिला आरोपित पाराशर की बात पर सहमत हो गई। आरोपित पाराशर ने इस हत्या के एवज में पांच लाख रुपए का खर्च बताया था, जिस पर आरोपित महिला ने सहमति दी और इसके बाद आरोपित मोनू पाराशर ने रायसेन निवासी अपने शूटर साथियों का खबर देकर महिला की हत्या की सुपारी दे दी।

एेसे हुआ खुलासा

एसपी विवेक सिंह ने बताया कि घटना के बाद जब आरोपित धाकड़ को पकड़ने के बाद पूछताछ हुई तो मामला गंभीर समझ में आया। उस समय यह स्पष्ट नहीं था कि इस हत्या के पीछे उसकी ननद भी हो सकती है, लेकिन पकड़े गए आरोपित द्वारा दी गई जानकारी के आधार पर कड़ियों को जोड़ा गया तो इस मामले का खुलासा हो गया। ज्ञात हो कि मृतका आरती को घायल अवस्था में जिला अस्पताल लाया गया था, इस समय समय आरोपित महिला यानी मृतका की ननद अनीता भी उसके साथ थी और इस तरह जताने का प्रयास किया था, जैसे वह घटना से पूरी तरह अनजान हो, लेकिन अंततः मामले का खुलासा हो गया। इस मामले में अभी रायसेन निवासी रवि परमार और नरसिंहगढ़ निवासी मोनू पाराशर फरार हैं, जिनकी गिरफ्तारी के प्रयास किए जा रहे हैं।