बंगाल में एनआरसी लागू कर घुसपैठियों को बाहर निकालेंगे : शाह

कोलकाता ः  पश्चिम बंगाल के अलीपुरद्वार में शुक्रवार को चुनावी जनसभा करने पहुंचे भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह ने कहा है कि यह चुनाव बंगाल के लिए अस्तित्व बचाने की लड़ाई है. आसन्न लोकसभा चुनाव के लिए पश्चिम बंगाल में आगामी 11 अप्रैल को पहले चरण के मतदान से पहले भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह सहित प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और योगी आदित्यनाथ की धुआंधार जनसभाएं होनी हैं. चुनाव की तारीखों की घोषणा होने के बाद अमित शाह की पहली जनसभा शुक्रवार को अलीपुरद्वार में भाजपा के प्रत्याशी जॉन बार्ला के समर्थन में जनसभा करने पहुंचे. यहां उन्होंने हर मामले में राज्य की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी पर हमला बोला है. भाजपा अध्यक्ष अमित शाह ने कहा कि विपक्षियों के लिए देश महत्वपूर्ण नहीं है, आतंकवाद का सफाया महत्वपूर्ण नहीं है बल्कि अपना वोट बैंक बचाना महत्वपूर्ण है. उन्होंने कहा कि केंद्र में सत्ता में आने पर भाजपा घुसपैठियों को बाहर निकालने के लिए पश्चिम बंगाल में राष्ट्रीय नागरिक पंजी (एनआरसी) लागू करेगी. शाह ने चुनावी रैली को संबोधित करते हुए दावा किया कि ममता दीदी ने मदरसे का बजट 4000 करोड़ रूपये कर दिया, इससे मुझे कोई तकलीफ नहीं है लेकिन बड़ी बात यह है कि पूरे बंगाल का उच्च शिक्षा का बजट इतना नहीं है . तृणमूल कांग्रेस प्रमुख पर निशाना साधते हुए भाजपा अध्यक्ष ने कहा कि इनके पास बच्चों की इंजीनियरिंग और मेडिकल की पढ़ाई के लिये पैसे नहीं हैं लेकिन मदरसों के लिये 4000 करोड़ रूपये है. उन्होंने जोर दिया कि ममता दीदी इमामों को मासिक भत्ता देती हैं लेकिन पुजारियों की बात चलती है तो इन्हें सांप सूंघ जाता है. उन्होंने जोर दिया कि तुष्टिकरण की नीति अब नहीं चलेगी . शाह ने कहा कि उनकी पार्टी केन्द्र में सत्ता में आने पर घुसपैठियों को बाहर निकालने के लिए पश्चिम बंगाल में राष्ट्रीय नागरिक पंजी (एनआरसी) लागू करेगी. हालांकि, उन्होंने यह स्पष्ट किया कि हिन्दू शरणार्थियों को प्रताड़ित नहीं किया जाएगा. शाह ने कहा, हम बंगाल में एनआरसी भी लाएंगे और सभी घुसपैठियों को बाहर निकालेंगे. हम यह भी सुनिश्चत करेंगे कि हिन्दू शरणार्थियों को प्रताड़ित नहीं किया जाए. वे बहुत हद तक हमारे देश का हिस्सा हैं. भाजपा अध्यक्ष ने यह भी कहा कि लोकसभा चुनाव तृणमूल कांग्रेस शासित पश्चिम बंगाल में फिर से पूरी तरह से लोकतंत्र बहाली के लिए है. उन्होंने दावा किया, कि तृणमूल कांग्रेस तीन टी - तृणमूल, टोल, टैक्स के लिए काम करती है. तृणकां सरकार के तहत बंगाल में गिरोह (उगाही समूह) पनप रहे हैं. पुलवामा के बाद पाकिस्तान के बालाकोट में हवाई हमलों को लेकर सरकार से सवाल पूछने को लेकर विपक्षी नेताओं की आलोचना करते हुये शाह ने कहा कि केवल नरेन्द्र मोदी के मजबूत नेतृत्व में चीन को डोकलाम मुद्दे पर और पाकिस्तान को आतंकवाद पर उचित जवाब दिया गया है. शाह ने कहा, लेकिन विपक्षी नेता सरकार (हवाई हमले को लेकर) से सवाल पूछ रहे हैं. वे पाकिस्तान से बातचीत करना चाहते हैं. इस चुनाव में आपके पास दो रास्ते हैं. एक रास्ता आपको नरेन्द्र मोदी तक तो दूसरा ठगबंधन (ठगों का एक गिरोह), जिसके नेता राहुल गांधी, ममता बनर्जी, अखिलेश यादव हैं, तक ले जाता है. उन्होंने आरोप लगाया कि विपक्षियों के लिए देश महत्वपूर्ण नहीं है, इनके लिए आतंकवाद का सफाया, देश की सुरक्षा महत्वपूर्ण नहीं है. इनके लिए घुसपैठिए महत्वपूर्ण है, इनका वोट बैंक बचना महत्वपूर्ण है .  तृणमूल कांग्रेस की थीम लाइन मां माटी मानुष पर कटाक्ष करते हुए अमित शाह ने कहा कि मां में से ममता चली गई. माटी घुसपैठियों को दे दी. और मानुष को हिंसा से तृप्त करके मौत के घाट उतारने का काम तृणमूल कांग्रेस ने किया है. यहां एकत्रित हुई विशाल जनसभा को संबोधित करते हुए उन्होंने कहा कि आज मैं आप सबसे 2019 के चुनाव के लिए आशीर्वाद मांगने आया हूं. ये 2019 का चुनाव देश के लिए बहुत महत्वपूर्ण चुनाव है. ये चुनाव तय करने वाला है कि देश किस दिशा में जाएगा. इसके साथ ही बंगाल के लिए ये चुनाव अपने अस्तित्व को बचाने का चुनाव है. मुख्यमंत्री ममता बनर्जी पर कटाक्ष करते हुए अमित शाह ने कहा कि बंगाल में ममता दीदी ने जिस तरह से सरकार चलाई है, उसने बंगाल की संस्कृति, सभ्यता को तबाह करने का काम किया है. बंगाल में तृणमूल कांग्रेस ने लोकतंत्र को समाप्त करने का काम किया. बंगाल की अस्मिता को समाप्त करने का काम किया है. बंगाल की संस्कृति को समाप्त करने का काम किया है. तृणमूल कांग्रेस को जमीन के अंदर से निकाल फेंकने का एक मौका आया है. राज्य में जारी गुंडाराज पर टिप्पणी करते हुए अमित शाह ने कहा कि बंगाल में विधवा पेंशन चाहिए, किसान क्रेडिट कार्ड चाहिए, धान की खरीदी इन सबसे लिए टॉल टैक्स देना होता है. टॉल टैक्स प्रथा से बंगाल की जनता त्राहिमाम कर रही है. साल 2018 में संपन्न हुए पंचायत चुनाव के दौरान व्यापक हिंसा का जिक्र करते हुए अमित शाह ने कहा कि पिछले चुनाव में 37 प्रतिशत लोगों को ममता दीदी ने वोट ही नहीं देने दिया. भाजपा के 80 कार्यकर्ताओं को मौत के घाट उतार दिया. आज ममता दीदी कान खोल के सुन लो, मैं आपको बताने आया हूं कि जितने असामाजिक तत्व उतारना है उतार दो इस बार तृणमूल कांग्रेस हारने वाली है. घुसपैठियों को पश्चिम बंगाल में संरक्षण देने को लेकर अमित शाह कहा कि ममता दीदी को लगता है उनकी नैय्या घुसपैठियों से पार होगी. मोदी की सरकार फिर से आने वाली है. हम एनआरसी लाएंगे और एक-एक घुसपैठिए को बाहर करेंगे. विगत आठ सालों में ममता बनर्जी की सरकार द्वारा किए गए कार्यों का हिसाब मांगते हुए अमित शाह ने कहा कि मोदी ने देश में गरीबों के लिए शौचालय बनाए, पक्के घर बनाए, बिजली दी, स्वास्थ्य सेवाएं दी. ममता दीदी ने गरीबों के लिए क्या किया, इसका हिसाब वो जनता को दें. उन्होंने कहा कि अलीपुरद्वार की जनता पर हमें भरोसा है कि यहां से जॉन बार्ला को लोग जिताएंगे. बंगाल में 23 सीटें भाजपा जीतेगी. इस बंगाल में जहां रवींद्र संगीत सुनाई देता था, अब बमों के धमाके सुनाई देते हैं. इस बार जनता मोदी जी को जिताएगी. ममता दी अब आपका समय समाप्त हो गया. गौ तस्करी से लोग अपना घर भर रहे हैं. ममता दी आपने गरीबों के लिए क्या किया ? इस मौके पर अमित शाह ने कांग्रेस के अध्यक्ष राहुल गांधी पर भी तंज कसा, कहा मुझे आपको हिसाब देने की जरूरत नहीं. अमित शाह ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जो फंड बंगाल भेजते हैं, वह भ्रष्टाचार की भेंट चढ़ जाता है. भाजपा गोरखा भाइयों के साथ खड़ी है. मजबूत सरकार बनाएं. फिर एक बार मोदी सरकार के नारे जनता से लगवा कर अमित शाह ने संबोधन समाप्त किया.