देहरादून में मोदी: कालेधन ने ही नहीं काले मन वालों ने देश बर्बाद किया




देहरादून: पीएम मोदी ने मंगलवार को उत्तराखंड में परिवर्तन रैली के दौरान नोटबंदी का विरोध करने को लेकर कांग्रेस पर एक बार फिर निशाना साधा। परेड ग्राउंड पर लोगों को संबोधित करते हुए प्रधानमंत्री ने कहा नोटबंदी के फैसले से पल भर में आतंकवाद, ड्रग माफिया, अंडरवर्ल्ड, मानव तस्करों की दुनिया तबाह हो गई। पीएम मोदी ने नोटबंदी को सफाई अभियान बताते हुए कहा कि सिर्फ कालेधन ने ही नहीं, काले मन वालों ने भी देश को तबाह किया है।
चार धाम प्रॉजेक्ट का उद्घाटन करने आए पीएम मोदी ने कहा, '2014 में देश ने भरपूर समर्थन दिया। 30 साल बाद दिल्ली में पूर्ण बहुमत दिया। आपने मुझे चौकीदार बनाया है। अब मैं चौकीदारी कर रहा हूं तो कुछ लोगों को बुरा लग रहा है।' उन्होंने कहा कि नोटबंदी ने एक ही वार में नकली नोट, आतंकवाद, मानव तस्करी, ड्रग माफिया और अंडरवर्ल्ड की दुनिया को तबाह कर दिया।

अगर राहुल के पूर्वजों ने 60 साल मे देश का विकास कर दिया होता तो उन्हे भाषन की जरूरत ही नही पड़ती पर कुछ किया ही नही तो छॉंग्रेस अपने अच्छे कामों पर, मोदी सरकार के अच्छे कामों पर चुनाव लड़ना चाहती है, 
नोटबंदी के चलते लोगों को रही तकलीफ को लेकर मोदी ने कहा, ' मैं जानता हूं कि आपको बहुत तकलीफें झेलनी पड़ी हैं, पर फिर भी देश भ्रष्टाचार से लड़ने के लिए उठ खड़ा हुआ है।' नोटबंदी को सफाई अभियान बताते हुए प्रधानमंत्री ने कहा, 'यह सफाई अभियान है। देशवासियों ने मेरी मदद की। अगर देशवासियों का साथ न होता तो ये लोग पता नहीं क्या कर देते।'

पीएम मोदी बोले, 2014 के आम चुनाव से पहले कांग्रेस ने कहा कि अगर वह चुनाव जीत जाए तो नागरिकों को मिलने वाले 9 सिलेंडरों की संख्या को 12 कर दिया जाएगा। लेकिन जब बीजेपी जीती तो उसने गरीबी रेखा के नीचे रहने वाले 5 करोड़ परिवारों को गैस कनेक्शन दिए। मोदी ने इसके बाद वन रैंक वन पेंशन को लेकर भी कांग्रेस को आड़े हाथों लिया।

पीएम ने कहा, '40 साल से देश के जवान वन रैंक वन पेंशन की मांग कर रहे थे। 40 साल तक जिस परिवार ने राज किया उनको कभी हमारे सेना के लोगों की इस मांग की याद नहीं आई। जब चुनाव आया और उनको लगा कि मोदी को सेना के प्रति विशेष प्रेम है, उस समय बजट में 500 करोड़ रुपये डाल दिया। जबकि इसका बजट 10 हजार करोड़ रुपये से ज्यादा है। 500 करोड़ डाल के देश के सेना के जवानों की आंखों में धूल झोंकने का काम हुआ।'

मोदी ने कहा, 'आज भी सरकारी नौकरी में मैरिट की जगह 'गांधी' (रिश्वत) जी चाहिए। हर चीज का दाम चलता था। मैंने भारत सरकार में निर्णय कर लिया। मैंने इंटरव्यू खत्म किया। जब मार्क्स आए हैं तो 30 सेकंड के इंटरव्यू में क्या किया जाता था? जो पैसे देता था उसको नौकरी मिलती थी। इस भ्रष्टाचार को खत्म करने के लिए भारत सरकार की नौकरी में हमने वर्ग तीन और 4 में इंटरव्यू खत्म किया। हमने राज्यों से भी कहा लेकिन उनको तकलीफ हो रही है। जैसे ही उत्तराखंड में बीजेपी की सरकार बनेगी यह काम यहां भी हो जाएगा।'