Friday, July 22, 2016

कांग्रेस ने सरकार की आर्थिक नीतियों को बताया विफल


सरकार की आर्थिक नीतियों को विफल बताते हुए कांग्रेस के एक सदस्य ने आज कहा कि जब सत्तारूढ़ दल वोट मांगने जाएगा तो उसे कीमतों में वृद्धि को लेकर गृहिणियों के गुस्से का सामना करना पड़ेगा। राज्यसभा में शून्यकाल के दौरान कांग्रेस के प्रमोद तिवारी ने महंगाई का मुद्दा उठाते हुए कहा कि जिस तेजी से दाम बढ़ रहे हैं, उससे आम आदमी के लिए गुजर बसर करना मुश्किल हो गया है। ‘‘भाजपा अच्छे दिन लाने का वादा कर सत्ता में आई थी लेकिन अब लोग कह रहे हैं कि हमारे पहले वाले बुरे दिन ही ले आएं।’’

तिवारी ने कहा कि रोजमर्रा की जरूरत की हर चीज महंगी हो गई है और कीमतों में वृद्धि जारी है। उन्होंने आरोप लगाया कि सत्ता पक्ष में बैठे कुछ लोगों ने खास लोगों से हाथ मिला लिया है जिसकी वजह से आज दालों की कीमत प्रति किलो 200 से अधिक हो चुकी है। महंगाई की वजह से सब्जियां खरीदना मुश्किल हो गया है। औद्योगिक विकास थम सा गया है। महंगाई की दर 5.77 फीसदी पहुंच गई और निर्यात में 18 मार्च से लगातार गिरावट ही आ रही है। सरकार के नवीनतम आंकड़ों के अनुसार, खुदरा क्षेत्र में महंगाई 22 माह में जून में सर्वाधिक 5.77 फीसदी हो गई है। तिवारी ने आरोप लाया कि सरकार की आर्थिक नीतियां पूरी तरह विफल रही हैं। उन्होंने कहा कि खुद भारतीय रिजर्व बैक के गवर्नर कह चुके हैं कि ब्याज दर कम करने की बात करने वाले बताएं कि कहां महंगाई कम हुई है। उन्होंने कहा कि महंगाई के चलते बड़ी संख्या में किसान और आम नागरिक आत्महत्या कर रहे हैं। सरकार को महंगाई रोकने के लिए तत्काल बड़े और ठोस कदम उठाने चाहिए। विभिन्न दलों के सदस्यों ने इस मुद्दे से स्वयं को संबद्ध किया।