Tuesday, June 7, 2016

राष्ट्रीयफडणवीस ने ‘गोपनीय’ तरीके से काम किया: शिवसेना


मुंबई: शिवसेना ने आज कहा कि महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस ने अपने पूर्व कैबिनेट सहकर्मी एवं वरिष्ठ भाजपा नेता एकनाथ खडसे को हटाने के लिए ‘‘गोपनीय’’ तरीके से काम किया। खडसे ने भूमि सौदे में अनियमितताओं सहित कई आरोप लगने के बाद इस्तीफा दे दिया था। शिवसेना ने अपने मुखपत्र ‘सामना’ में एक संपादकीय में कहा, ‘‘खडसे ने सोचा होगा कि कल का लड़का देवेंद्र फडणवीस राजनीति नहीं समझेगा। उन्होंने सोचा कि वह ही सरकार हैं। लेकिन वह यह जानने में असफल रहे कि यह कल का लड़का पटाखे में बारूद भर रहा है।’’

इसने कहा कि भ्रष्टाचार निरोधक ब्यूरो (एसीबी) छह महीने से खडसे के पीए गजानन पाटिल के पीछे था लेकिन खडसे को उस बारे में कोई भनक तक नहीं थी। संपादकीय में कहा गया, ‘‘इससे, हमें फडणवीस की कार्यशैली में गोपनीयता समझ आती है।’’ शिवसेना ने जानना चाहा कि फडणवीस अपने सहकर्मी को बचाने एक बार भी सामने क्यों नहीं आए। इसने कहा, ‘‘खडसे कह रहे हैं कि उनके खिलाफ कोई सबूत नहीं है और यदि वह दोषी साबित होते हैं तो राजनीति छोड़ देंगे। यहां तक कि छगन भुजबल भी जेल में यही बात कह रहे हैं, आदर्श घोटाले के आरोपी अशोक चव्हाण भी यह बात कह रहे हैं। सोनिया गांधी के दामाद रॉबर्ट वाड्रा भी कह रहे हैं कि वह निर्दोष हैं।’’

पुणे में भूमि सौदे में कथित अनियमितताओं, कराची स्थित दाउद इब्राहीम के आवास से उनके फोन पर कॉल आने तथा उनके निजी सहायक द्वारा कथित तौर पर रिश्वत मांगे जाने सहित सिलसिलेवार आरोपों के मद्देनजर खडसे ने शनिवार को इस्तीफा दे दिया था। इसके बाद, फडणवीस ने खडसे पर लगे आरोपों में उच्च न्यायालय के एक सेवानिवृत्त न्यायाधीश से जांच कराने की घोषणा की। यह मांग खुद खडसे ने भी की थी।