Sunday, June 12, 2016

दिल्ली से खाली हाथ लौटे पूर्व मंत्री एकनाथ खडसे


मुंबई: कई आरोपों के बाद हाल ही में राजस्व मंत्री के पद से इस्तीफा देने वाले वरिष्ठ भाजपा नेता एकनाथ खडसे ने शुक्रवार को नयी दिल्ली में प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी, राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजीत डोवाल के साथ-साथ पार्टी के वरिष्ठ नेताओं से मिलने की असफल कोशिश की। हालांकि, दिल्ली पहुंचे उत्तरी महाराष्ट्र के दिग्गज नेता से केन्द्रीय परिवहन मंत्री नितिन गडकरी को छोड़कर पार्टी के अन्य वरिष्ठ नेताओं ने मुलाकात नहीं की।

वह अपने मामले में पार्टी नेतृत्व के समक्ष दस्तावेज लेकर पहुंचे थे। मराठवाडा भाजपा के एक नेता ने यहां पर बताया कि खडसे ने पांच देश के दौरे से लौटे मोदी से मिलने का प्रयास किया लेकिन असफल रहे। उन्होंने बताया, ‘‘पार्टी ने पहले ही जलगांव जिले में खडसे के चिर प्रतिद्वंद्वी और राज्य के जल संसाधन मंत्री गिरीश महाजन को तैयार करना शुरू कर दिया है और जिले में पार्टी का प्रमुख नियुक्त किया है।’'

इस बीच, खबरें हैं कि विभिन्न गड़बड़ियों के आरोपों को लेकर पिछले सप्ताह महाराष्ट्र मंत्रिमंडल से इस्तीफा देने वाले एकनाथ खड़से को राज्य पुलिस द्वारा फरार माफिया सरगना दाउद इब्राहिम से कॉल आने से जुड़े आरोपों में बरी किए जाने की संभावना है। गृह विभाग के अधिकारी ने नाम न जाहिर करने की शर्त पर बताया कि कराची के लैंड लाइन (कथित तौर पर दाउद की पत्नी के नाम पर पंजीकृत) से खड़से के सेलफोन पर कथित तौर पर कॉल किए जाने के मामले की जांच लगभग पूरी हो चुकी है और अंतिम रिपोर्ट एक सप्ताह के भीतर आ सकती है।

अधिकारी ने कहा, ‘‘आतंकवाद-निरोधक दस्ता (जिसने आरोपों की जांच की) को सारे कॉल डाटा रिकॉर्ड मिले हैं, अब तक इन कॉल डाटा रिकार्डस की जांच में कुछ भी उल्लेखनीय बात सामने नहीं आई है।’’ इससे पहले मुंबई पुलिस की अपराध शाखा ने भी कहा था कि आरोपों में कोई दम नहीं है। इस संबंध में आरोप सबसे पहले आम आदमी पार्टी ने आरोप लगाए थे।