Wednesday, January 20, 2016

पाक में विश्वविद्यालय पर तालिबान आतंकियों का हमला, 25 की मौत


चारसद्दा : अशांत उत्तरपश्चिमी पाकिस्तान में आज भारी हथियारों से लैस तालिबान के आत्मघाती हमलावर एक प्रतिष्ठित विश्वविद्यालय में घुस गए और अंधाधुंध गोलीबारी की जिससे कम से कम 21 लोग मारे गए जबकि सुरक्षा बलों की जवाबी कार्रवाई में चार आतंकवादी ढेर हो गए.

यह हमला 2014 में पेशावर के एक सेना स्कूल पर हुए नृशंस हमले की याद दिलाता है. पुलिस ने बताया कि बंदूकधारी प्रांत के चारसद्दा जिला स्थित बाचा खान विश्वविद्यालय में घुस गए और उन्होंने कक्षाओं एवं छात्रावासों में छात्रों और शिक्षकों पर गोलियां चलानी शुरू कर दीं. यह विश्वविद्यालय खैबर पख्तूनख्वा प्रांत के पेशावर शहर के दक्षिण पश्चिम में करीब 50 किलोमीटर दूर स्थित है. विश्वविद्यालय का नाम प्रसिद्ध नेता खान अब्दुल गफ्फार खान उर्फ बाचा खान के नाम पर रखा गया है.

सुरक्षा बलों की जवाबी कार्रवाई में चार आतंकी मारे गए जिसके साथ मृतकों की कुल संख्या 25 हो गयी. आतंकी घने कोहरे का फायदा उठाते हुए विश्वविद्यालय की दीवारें फांद गए और उसकी इमारतों में घुस गए. विश्वविद्यालय परिसर के भीतर विस्फोटों और भारी गोलीबारी की आवाज सुनी गई. उस समय वहां बाचा खान की बरसी के मौके पर एक काव्य संगोष्ठी चल रही थी. बादशाह खान का 20 जनवरी, 1988 को निधन हो गया था.

विश्वविद्यालय के कुलपति डॉ. फजल रहीम ने बताया कि हमले के दौरान विश्वविद्यालय के अंदर करीब 3,000 छात्र और 600 मेहमान मौजूद थे. संघीय सूचना मंत्री परवेज राशिद ने विश्वविद्यालय का दौरा किया और मीडिया से कहा कि सुरक्षा बलों द्वारा परिसर को खाली कराने के लिए शुरू किया गया अभियान पूरा हो गया.

उन्होंने कहा कि हमला प्रांत में चल रहे सैन्य अभियान की प्रतिक्रिया है जिसने आतंकियों की कमर तोड़ दी है. अधिकारियों ने कहा कि मृतकों में एक प्रोफेसर, दो छात्र और चार सुरक्षा गार्ड शामिल हैं. 

तहरीक-ए-तालिबान ने इस घटना की जिम्मेवारी ली है. तहरीक-ए-तालिबान ने ही 2014 के दिसंबर में पेशावर के आर्मी स्कूल पर हमला कर पौने दो सौ बच्चों की जान ली थी. पाकिस्तान के प्रधानमंत्री नवाज शरीफ ने कहा कि जिन आतंकियों ने विश्वविद्यालय पर हमला कर निर्दोष छात्राें की जान ली, उनका कोई धर्म नहीं है. उन्होंने आतंकियों की कार्रवाई की निंदा की है.