Tuesday, November 3, 2015

दादरी से सरकार को मिला सबक, पहले संदेश देना चाहिए था: प्रकाश जावड़ेकर


नई दिल्ली : देश में बढ़ती कथित असहिष्णुता पर बढ़ते बवाल के दौरान मोदी सरकार की तरफ से बड़ा बयान दिया गया है। मोदी सरकार में सीनियर केंद्रीय मंत्री प्रकाश जावड़ेकर ने कहा है कि दादरी घटना से उनकी सरकार ने सबक ले लिया है। जावड़ेकर ने कहा, 'हमने दादरी से सबक सीख लिया है। सरकार को तेजी से इस पर बात करनी चाहिए थी।' उन्होंने कहा कि सरकार ने सबक लिया है कि सही समय पर सही संदेश दिया जाना चाहिए।

जावेड़कर ने बीफ बैन की मांग कर रहे बीजेपी नेताओं और सहयोगी संगठनों को भी कड़ा संदेश दिया। एनडीटीवी से बात करते हुए जावड़ेकर ने कहा कि खाना लोगों की निजी पसंद-नापसंद का मामला है, किसी और को यह तय करने का अधिकार नहीं है।

केंद्रीय पर्यावरण मंत्री ने पार्टी के ही वरिष्ठ नेता और राष्ट्रीय महासचिव कैलाश विजयवर्गीय के एक बयान को भी खारिज कर दिया। विजयवर्गीय के बयान को गलत बताते हुए उन्होंने कहा कि वह बीजेपी के प्रवक्ता नहीं है और उनका बयान निंदनीय है।

विजयवर्गीय ने बॉलिवुड ऐक्टर शाहरुख खान के असहिष्णुता वाले बयान पर कहा था कि वह भारत में रहते हैं पर उनकी आत्मा पाकिस्तान में बसती है। वर्गीय ने कहा, 'उनकी फिल्में यहां करोड़ों कमाती हैं, लेकिन उन्हें यहां असहिष्णुता नजर आती है।'

दूसरी तरफ, फिल्म इंडस्ट्री के भी कई हस्तियों ने देर शाम केंद्रीय राज्य मंत्री मुख्तार अब्बास नकवी से मुलाकात कर देश के मौजूदा हालात पर बात की। नकवी से मुलाकात के बाद फिल्म निर्माता मुकेश  भट्ट ने कहा, 'नवकी ने बढ़िया पहल की है। यह ऐतिहासिक कदम है। हमने तय किया है कि हम अब सरकार से नियमित तौर पर बात करेंगे। यही वक्त की मांग है।'